जम्मू-कश्मीर में भाजपा और पीडीपी के बीच गठबंधन टूटने के बाद बीजेपी सांसद सुब्रमण्यम स्वामी ने एक बार फिर से पीडीपी के साथ संकेत देते हुए राज्य में हिन्दू मुख्यमंत्री की मांग रखी है।

स्वामी ने कहा कि जम्मू-कश्मीर में एक हिंदू मुख्यमंत्री की जरूरत है। उन्होने कहा, अगर पीडीपी के पास कोई हिंदू या सिख सदस्य हो, तो उसे मुख्यमंत्री बनाया जा सकता है। उन्होने ये भी कहा, जम्मू-कश्मीर में कोई मुस्लिम मुख्यमंत्री बन सकता है, जवाहर लाल नेहरू का थोपा यह ढर्रा बर्दाश्त नहीं होगा।

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

स्वामी के इस बयान के बाद सोशल मीडिया पर उनकी तीखी आलोचना शुरू हो गई है। एक यूजर ने कहा कि स्वामी साहब मुस्लिम दामाद तो मंजूर करर सकते है लेकिन उन्हे मुस्लिम बहुल राज्य में मुस्लिम मुख्यमंत्री मंजूर नहीं। वहीं दूसरे यूजर ने कहा कि सुब्रमण्यम स्वामी को हर जगह हिन्दू-मुस्लिम ही नजर आता है। उन्हे राजनीति के आगे कश्मीर की अस्थिरता नजर नहीं आ रही है।

बता दें कि सुब्रह्मण्यम् स्वामी ने रोक्सना नाम की एक पारसी महिला से जून 1966 में विवाह किया। वे भारत के सर्वोच्च न्यायालय में वकील हैं। उनकी दो बेटियाँ है, एक गीतांजलि स्वामी जिसने एम०आई०टी० विश्वविद्यालय के प्रोफेसर संजय शर्मा से शादी की है और दूसरी सुहासिनी हैदर जो सीएनएन आईबीएन में सम्पादक है। जिसने नदीम हैदर से शादी की है।

Loading...