Wednesday, January 26, 2022

मानव मूत्र किया जाए इकट्ठा, विदेशों से यूरिया आयात नहीं करना पड़ेगा: नितिन गडकरी

- Advertisement -

केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने रविवार को नागपुर के एक कार्यक्रम में कहा कि देश में मानव मूत्र से यूरिया निर्माण होना चाहिए। अगर ऐसा होता है तो हमें उर्वरक आयात करने की आवश्यकता नहीं पड़ेगी। उन्होंने कहा कि मैंने एयरपोर्ट पर मूत्र इकट्ठा करने के लिए कहा है। अब प्राकृतिक कचरे से ईंधन बनाया जा रहा है जो पर्यावरण के लिए अनुकूल है।

गडकरी ने कहा, “मैंने हवाई अड्डों पर मानव मूत्र को एकत्र करने के लिए कहा है। हम यूरिया आयात करते हैं लेकिन अगर हम पूरे देश में मूत्र इकट्ठा करना प्रारंभ कर दें तो हमें यूरिया के आयात की आवश्यकता नहीं पड़ेगी। इसमें इतनी क्षमता है और कुछ भी नष्ट नहीं होगा।”

उन्होंने कहा कि लोग मेरा सहयोग नहीं करते क्योंकि मेरे सभी विचार शानदार होते हैं। कार्यक्रम में गडकरी ने दावा किया कि मानव के बालों के इस्‍तेमाल से किसानों का उत्‍पादन 25 फीसदी बढ़ जाता है। उन्‍होंने बताया कि वह तिरुपति से हर महीने 5 ट्रक बाल खरीदते हैं। इससे वह उर्वरक तैयार करते हैं।

नागपुर नगर निगम के मेयर इनोवेशन अवाडर्स कार्यक्रम में लोगों को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि यहां तक कि मानव मूत्र जैव-ईंधन बनाने में लाभप्रद हो सकता है और इसका प्रयोग अमोनियम सल्फेट और नाइट्रोजन प्राप्त करने में किया जा सकता है।

बता दें कि कुछ साल पहले गडकरी ने कहा था कि वह खुद अपना मूत्र इकट्ठा करते हैं और उसे दिल्‍ली में अपने आवास में बने बगीचे में उर्वरक के रूप में इस्‍तेमाल करते हैं।

- Advertisement -

[wptelegram-join-channel]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles