उमा भारती ने बुलंदशहर घटना को इज्‍तिमा से जोड़ा, कहा – माहौल संदिग्ध और गोपनीय था

6:34 pm Published by:-Hindi News

कथित गौरक्षा के नाम पर हिंदुवादियों द्वारा बुलंदशहर में की गई हिंसा के मामले में उत्तर प्रदेश की बीजेपी सरकार पूरी तरह से घिर चुकी है। ऐसे में अब इस घटना पर पर्दा डालने के लिए तब्लीगी इज्तिमा का सहारा लिया जा रहा है।

केंद्रीय मंत्री उमा भारती ने इस हिंसा को तब्लीगी इज्तिमा से जोड़ते हुए कहा कि “तब्लीगी इज्तिमा के कार्यक्रम में 10 से 15 लाख लोग जुटे हुए थे। इसके लिए 6 से 7 किलोमीटर के दायरे में टेंट लगाया गया था। पूरी बैठक गोपनीय और संदिग्ध माहौल में हो रही थी। यहां तक कि इस कॉन्क्लेव में मीडियाकर्मियों के प्रवेश पर भी मनाही थी। यह इशारा करता है कि जिस जिले में इज्तिमा हो रहा था। वहीं, पर क्यों हिंसा की वारदात हुई।

उमा भारती ने पुलिस इंस्पेक्टर सुबोध कुमार की हत्या के मामले में उन्होंने कहा, “घटना की गहराई से जांच होनी चाहिए और यह सही है कि योगी सरकार ने तत्काल मामले में एसआईटी टीम को जांच का जिम्मा सौंप दिया है।”  हालांकि यूपी पुलिस इस घटना का इज्तिमा कार्यक्रम से किसी भी प्रकार के संबंध को नकार चुकी है।

दरअसल, यूपी पुलिस ने सुदर्शन न्यूज के मालिक सुरेश चवहाणके को बुलंदशहर हिंसा को तबलीगी जमात के इज्तिमा से जोड़ने पर कड़ी फटकार लगाई थी। चव्हाणके के  ट्वीट पर बुलंदशहर पुलिस ने ट्वीट किया, “कृपया भ्रामक खबर न फैलाएं। इस घटना का इज्तिमा कार्यक्रम से कोई संबंध नही है। इज्तिमा सकुशल संपन्न हुआ है। उपरोक्त हिंसा की घटना इज्तिमा स्थल से 45-50 किमी दूर थाना स्याना क्षेत्र मे घटित हुई है जिसमें कुछ उपद्रवियो द्वारा घटना कारित की गयी है। इस संबंध मे वैधानिक कार्यवाही की जा रही है।

वहीं दूसरी और यूपी सरकार के कैबिनेट मंत्री ओम प्रकाश राजभर ने इस हिंसा के लिए बजरंग दल और वीएचपी को जिम्मेदार ठहराया है। उन्होंने कहा, “यह वीएचपी, बजरंग दल और आरएसएस की ओर से प्री-प्लान षड्यंत्र है, अब पुलिस भी इसमें कुछ बीजेपी सदस्यों का नाम दे रही है।”

राजभर ने सवाल उठाया, “मुस्लिम इज्तेमा समारोह के दिन ही ये प्रदर्शन क्यों हुआ? यह शांति को भंग करने की कोशिश थी।उन्होंने आगे कहा कि बजरंग दल और वीएचपी वाले बीजेपी के लिए काम करते हैं। इस घटना में बीजेपी का नेता भी पकड़ा गया है। जिन तीन लोगों की गिरफ्तारी हुई है, इसमें एक बीजेपी नेता भी है। कैबिनेट मंत्री ओम प्रकाश राजभर ने कहा कि सीएम योगी से यही कहेंगे कि इनके खिलाफ कड़ी से कड़ी कार्रवाई की जाए।”

खानदानी सलीक़ेदार परिवार में शादी करने के इच्छुक हैं तो पहले फ़ोटो देखें फिर अपनी पसंद के लड़के/लड़की को रिश्ता भेजें (उर्दू मॅट्रिमोनी - फ्री ) क्लिक करें