नई दिल्ली: दिल्ली के उत्तर पश्चिम लोकसभा सीट से टिकट न मिलने से नाराज बीजेपी नाराज सांसद उदित राज ने कांग्रेस का हाथ थाम लिया है। बुधवार को कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की मौजूदगी में सांसद उदित राज कांग्रेस में शामिल हुए।

कांग्रेस द्वारा आयोजित प्रेस कॉन्फ्रेंस में उदित राज ने आरोप लगाया कि बीजेपी एक दलित विरोधी पार्टी है. उदित राज ने आगे कहा कि बीजेपी पिछड़ा विरोधी पार्टी है। उन्होंने यह भी कहा कि वह साल 2014 के आस-पास में ही कांग्रेस ज्वाइन करना चाहते थे। बता दें कि उदित राज का टिकट काटकर बीजेपी ने हंसराज हंस को टिकट दिया है।

उन्होंने कहा कि 2014 में रामनाथ कोविंद मेरे पास आए थे। कहा कि मेरा कुछ कराइए। वह भी टिकट चाहते थे, लेकिन नहीं दिया। वह चुप रहे तो उन्हें राष्ट्रपति बना दिया गया। हो सकता है, मैं चुप रहता तो मुझे भी पीएम बना देते। मैं गूंगा-बहरा बन कर नहीं रह सकता।

टिकट कटने के सवाल पर उन्होंने कहा, ‘‘जब 2018 में एससी-एसटी संशोधन पर बंद आयोजित हुआ, मैंने विरोध किया, इसलिए ही पार्टी नेतृत्व संभवतया मुझसे नाराज हो गया। जब सरकार की तरफ से कोई भर्ती नहीं हो रही, तो क्या मुझे इस मुद्दे को नहीं उठाना चाहिेये था?. मैं दलितों के मुद्दों उठाता रहूंगा।’

इंडियन रेवेन्यू सर्विस ऑफिसर उदित राज ने साल 2003 में अपनी नौकरी से इस्तीफा देकर इंडियन जस्टिस पार्टी का गठन किया था। इसके बाद 2014 में उन्होंने अपनी पार्टी का विलय बीजेपी में कर दिया और बीजेपी के टिकट पर लोकसभा चुनाव लड़ा।

इस चुनाव में उन्होंने नॉर्थ वेस्ट दिल्ली सीट से आम आदमी पार्टी की उम्मीदवार राखी बिड़ला को 6,29,860 वोटों से हराया था।

शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें