आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत को राष्ट्रपति पद का उम्मीदवार बनाने की एक बार फिर से शिवसेना ने मांग उठाई हैं. उन्होंने बीजेपी को निशाने पर लेते हुए कहा कि जब आरएसएस के कार्यकर्ता राज्यपाल बन सकते हैं तो आरएसएस प्रमुख राष्ट्रपति क्यों नहीं.

उन्होंने कहा, ‘हमारी हार्दिक इच्छा है कि भागवत का नाम राष्ट्रपति पद के लिए आगे बढ़ाया जाना चाहिए. हिंदू राष्ट्र के हमारे संकल्प के लिए वह सबसे योग्य उम्मीदवार हैं. राज्यपालों की नियुक्ति पर गौर कीजिए. आरएसएस के कार्यकर्ताओं को अगर राज्यों का राज्यपाल बनाया जा सकता है, तो भागवत को राष्ट्रपति बनाने में कोई समस्या नहीं होनी चाहिए.’

यह पूछने पर कि क्या अपनी पहली पंसद पूरी नहीं होने पर शिवसेना, एनसीपी प्रमुख शरद पवार का अगले राष्ट्रपति के तौर पर समर्थन करेगी तो उन्होंने कहा, ‘इस मुद्दे पर हमने एक-दूसरे से बात नहीं की है इसलिए इस समय कुछ नहीं कहा जा सकता..’

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

उद्धव ने कहा, ‘लेकिन पवार के बारे में क्या कहा जा सकता है? मोदी जी ने खुद ही कहा था कि पवार उनके गुरु हैं. उन्हें पद्म विभूषण से भी नवाजा गया है. मुझे नहीं पता कि किसके दिमाग में क्या चल रहा है.’

Loading...