औरंगाबाद में AIMIM से मिली हार को नहीं भुला पाए उद्धव ठाकरे, बोले- गलती को सुधारने का….

साल 2019 के लोकसभा चुनाव में औरंगाबाद लोकसभा सीट पर मिली हार से शिवसेना को बड़ा झटका लगा। जिसकी भरपाई वह अब विधानसभा चुनाव में इस सीट को जीतकर पूरा करना चाहती है।

1991 से शिवसेना लगातार यहां सात बार जीती और 26 सालों तक अपराजेय रही। लेकिन हाल ही में हुए लोकसभा चुनाव में औरंगाबाद सीट पर असदुद्दीन ओवैसी की पार्टी ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) के इम्तियाज़ जलील ने शिवसेना उम्मीदवार को हरा दिया।

ऐसे में अब उद्धव ठाकरे ने कहा, ”जब भगवा गठबंधन ने देशभर में लोकसभा चुनाव में बहुमत हासिल किया था, तब औरंगाबाद से वह हार गया था। यहां लोग नाराज थे और इसलिए उन्होंने शिवसेना उम्मीदवार के लिए मतदान नहीं किया। हमने एक चुनाव हारा, लेकिन यहीं सब समाप्त नहीं जो जाता। अब इस गलती को सुधारने का समय आ गया है। हमें भरोसा है कि इस बार यहां (विधानसभा चुनावों में) एआईएमआईएम के उम्मीदवार की जमानत जब्त हो जाएगी

बता दें कि 2014 के विधानसभा चुनाव में असदुद्दीन ओवैसी की पार्टी को दो सीटें मिली थी। ये सीटें मुंबई की बायकुला और औरंगाबाद सेंट्रल थी। वहीं इसी साल हुए लोकसभा चुनाव में में ओवैसी की पार्टी यहां जीतने में कामयाब रही।
विज्ञापन