राष्ट्रीय जनता दल के अध्यक्ष लालू प्रसाद ने बुधवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर वादाखिलाफी का आरोप लगाते हुए कहा कि पीएम मोदी ने बिहार के लिए पैकेज देने का वादा किया था लेकिन वो ‘फैकेज’ निकला.

दरअसल, प्रधानमन्त्री ने अक्टूबर 2015 में विधानसभा चुनावों के दौरान बिहार को 1.25 लाख करोड़ रुपये का पैकेज देने का वादा किया था. लेकिन आरटीआई में खुलासा हुआ हैं कि लगभग 18 महीने बीत जाने के बाद भी इस घोषित रकम का कोई अता-पता नहीं है.

अक्टूबर, 2015 में विधानसभा चुनाव के दौरान बिहार में एक चुनावी सभा को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा था, बिहार के लिए 70 हजार, 80 हजार, 90 हजार करोड़ दूं या ज्यादा दूं. चलो सवा लाख करोड़ देता हूं. आरटीआइ के तहत मिली जानकारी के मुताबिक, इस मद में अभी तक एक भी पैसा जारी नहीं किया गया है.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

आरटीआई कार्यकर्ता गलगली ने कहा कि 18 अगस्त 2015 को प्रधानमंत्री ने बिहार के लिए 1,25,003 करोड़ रुपये के विशेष पैकेज की घोषणा की थी. लेकिन वित्त मंत्रालय के अधिकारी परमार के संक्षिप्त उत्तर में कहा गया है कि ‘परियोजनाओं या कार्यों को सिलसिलेवार तरीके से पूरा किया जाएगा. हालांकि आज तक वित्त मंत्रालय की ओर से कोई पैसा जारी नहीं किया गया है.

इस पर लालू यादव ने कहा कि प्रधानमंत्री जैसे शीर्ष संवैधानिक पद पर बैठे व्यक्ति को इस तरह ‘झूठ नहीं बोलना चाहिए.’उन्होंने आगे कहा कि मोदी ने 2014 के लोकसभा चुनाव में वाराणसी को क्योटो बनाने का वादा किया था, लेकिन लगभग तीन साल बाद उनकी कलई खुल गई है और यह साबित हुआ है कि उनके कहे शब्द और वादे केवल ‘झूठ का पुलिंदा’ हैं.

Loading...