tip

tip

दिल्ली: विधायकों को देश के क्रांतिकारियों से रुबरु कराने के मकसद से दिल्ली की विधानसभा में स्वतंत्रता सेनानियों और क्रांतिकारियों की तस्वीर लगाई गई थी. इन तस्वीरों में शेर ए मैसूर टीपू सुल्तान की तस्वीर को भी लगाया गया है.

विधानसभा में तात्या टोपे से लेकर लक्ष्मीबाई और नानाराव पेशवा से लेकर बिरसा मुंडा तक कुल 70 तस्वीरे लगाईं गई है. लेकिन टीपू सुल्तान की तस्वीर को लेकर बीजेपी ने बवाल मचाना शुरू कर दिया है.

जिसके बाद आम आदमी पार्टी ने कड़ा पलटवार करते हुए बीजेपी से सवाल किया कि बीजेपी बताए की आरएसएस में कौन सा ऐसा शख्स है. जिसने देश की आजादी के लिए अपनी जान दी.

आप विधायक और पार्टी प्रवक्ता सौरभ भारद्वाज ने कहा “हमने बीजेपी और उनके विधायकों से पूछा था कि वे अपनी पार्टी या आरएसएस के लोगों के नाम बताएं, जिन्होंने स्वतंत्रता संघर्ष में काम किया था लेकिन उन्होंने किसी का नाम नहीं दिया.”

वहीँ स्पीकर राम निवास गोयल ने कहा “अब वे गैलरी में टीपू सुल्तान के चित्र को दिखाए जाने को लेकर विरोध कर रहे हैं. मैं उन्हें बताना चाहता हूं कि हमारे संविधान के 144वें पेज पर भी टीपू सुल्तान का चित्र दिया गया है. बीजेपी को इस तरह की घटिया राजनीति करने के बजाए विकास की राजनीति करनी चाहिए.”

ध्यान रहे बीजेपी के विधायक ओपी शर्मा ने टीपू सुल्तान की तस्वीर को लेकर कहा था कि “जब केजरीवाल के पता है कि ये विवादित है तो क्यों तस्वीर लगाई गई. भगत सिंह, रानी लक्ष्मीबाई के साथ लगाने वाला कद नहीं है टीपू सुल्तान का. मैं ये मामला विधानसभा में भी उठाऊंगा.”

मुस्लिम परिवार शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

Loading...

विदेशों में धूम मचा रहा यह एंड्राइड गेम क्या आपने इनस्टॉल किया ?