अकेले गिरिराज के बाप-दादा का नहीं है ये देश, जान से प्यारे तिरंगे में भी है हरा रंग: तनवीर हसन

11:32 am Published by:-Hindi News

केंद्रीय मंत्री एवं भाजपा नेता गिरिराज सिंह ने कहा कि चुनाव आयोग को हरे झंडों के प्रयोग को प्रतिबंधित कर देना चाहिए। उन्होंने आरोप लगाया कि ये घृणा फैलाते हैं और पाकिस्तान में इस्तेमाल होने की धारणा बनाते हैं। गिरिराज सिंह की इस मांग पर आरजेडी नेता डॉ तनवीर हसन की तीखी प्रतिक्रिया आई है।

डॉ तनवीर हसन ने गिरिराज सिंह को ट्विटर पर देते हुए कहा कि यह देश अकेले गिरीराज के बाप-दादा का नहीं है। हम भारतीयता के सभी रंगो में रंगे हुए देशप्रेमी है। देश से बड़ा कोई रंग और मजहब नहीं। हमने यहाँ की फ़िज़ाओं में मोहब्बत और भाईचारे का रंग घोला है जिसे आप जैसे ज़हरीली मानसिकता के विघटनकारी लोग ख़त्म करना चाहते है। ऐसा हम होने नहीं देंगे। 

आरजेडी नेता ने कहा, सुनो  गिरिराज सिंह, पहले अपने आका की पार्टी जेडीयू का झंडा बदलवाइये। नीतीश कुमार की पार्टी के झंडे का रंग भी हरा है। दंगाई और बलवाई चरित्र तो है ही! इसलिए पहले जेडीयू के झंडे को आग लगाइये। बिना हड्डी की ज़ुबान है कुछ भी बकते रहते है। हार देख बौखला गए है का???

उन्होने लिखा, अज्ञानी गिरीराज हार देख बौखला गए है, उन्हें ज्ञात नहीं है कि हमारे जान से प्यारे तिरंगे में भी हरा रंग है जो हमारी साँझी विरासत और सम्पन्नता का प्रतीक माना जाता है। राष्ट्रध्वज के निर्माताओं ने देश को एक सूत्र में बांधने के लिए बहुत सोच-समझकर ही हरे समेत तीन रंगो का उपयोग किया है। 

वहीं तेजस्वी यादव ने कहा कि तनवीर साहब, अगर ज़हरीला आदमी विषगमन नहीं करेगा तो क्या करेगा? आज हमारे समाज में काले नागों की बहुतायत हो गई है। ऐसे नाग क्षेत्रवाद, भाषावाद, धर्मवाद और संप्रदायवाद का समाज में विषगमन करके देश की एकता और अखंडता को खंडित करने की कोशिश कर रहे हैं। लेकिन हम बिहारी ऐसा नहीं होने देंगे।

बता दें कि बेगूसराय सीट पर राजद के तनवीर हसन का मुकाबला केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह और सीपीआई उम्मीदवार कन्हैया कुमार से है।

Loading...