lalu-yadav

नोटबंदी के एक महीना पूरे होने के बाद राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के अध्यक्ष लालू प्रसाद ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधते हुए कहा कि नोटबंदी के 30 दिन बीत चुके हैं, स्थिति सामान्य नहीं हुई तो 50 दिन बीतने पर वादे के मुताबिक क्या मोदी प्रधानमंत्री पद से इस्तीफा देंगे या मुंह छिपाते फिरेंगे?

उन्होंने कहा, “भागते भूत की लंगोटी भली. नोटबंदी में मिट्टी पलीत होते देख प्रधानमंत्री कालाधन का आलाप त्याग, अब ‘कैशलेस’ के पल्लू में छुप रहे हैं.”

l1

उन्होंने ट्वीट कर कहा, “मोदी जी, देश महानगरों से ही नहीं बना है. आपका यह अर्थव्यवस्था पर थोपा घातक प्रयोग गांवों में अन्न, जीवन, मृत्यु और भविष्य का प्रश्न बन गया है.”

लालू ने आगे लिखा, “न प्रधानमंत्री, न उनके मंत्री, न आर्थिक सलाहकारों या नीति आयोग को गांवों की समझ है. ग्रामीणों की व्यथा को समझना तो बहुत दूर की कौड़ी होगी.”

l2

नोटबंदी से हुई मौतों को लेकर “जो 90 लोग प्रत्यक्ष रूप से नोटबंदी की भेंट चढ़ गए वे क्या गैर मुल्की थे? उनके परिवार का भार कौन लेगा? प्रधानमंत्री के पास उनके लिए समय और शब्द भी नहीं है? मोदी जी जानते हैं कि बमुश्किल 20 फीसदी भारतीय ही ‘कैशलेस ट्रांजैक्शन’ करने की स्थिति में हैं? ये बस नोटबंदी के दलदल से ध्यान हटाने का जुमला है.”


शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

Loading...

कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें