p chin

पूर्व वित्त मंत्री पी. चिदंबरम ने रिजर्व बैंक द्वारा पुराने नोटों को जमा करने के लिए जारी किये गये नए नियमों को लेकर मंगलवार को कहा कि आरबीआई द्वारा पुराने नोटों में 5,000 रुपये से ज्यादा की रकम एक बार से ज्यादा बार जमा नहीं करने की घोषणा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा किये गये वादे को तोड़ती हैं.

उन्होंने कहा कि आबीआई ने सोमवार को घोषणा की कि लोग 500 और 1000 रुपये के पुराने नोटों में 5,000 रुपये से ज्यादा की रकम एक बार से ज्यादा बार जमा नहीं कर सकते. यह रोक प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के 8 नवंबर को किए गए वादे और वित्त मंत्री द्वारा 11 नवंबर को दिए गए आश्वासन को तोड़ती है कि सभी पुराने नोट बिना किसी बाधा के 30 दिसम्बर तक स्वीकार किए जाएंगे.

चिदंबरम ने आगे हा, “नोट जमा करने पर आरबीआई नए नियम बना रही है. वित्त मंत्री कुछ और कहते हैं. किस पर जनता भरोसा करे? किसी की भी विश्वसनीयता नहीं है. काला धन वालों ने अपना धन सफेद कर लिया. गरीब और मध्यम वर्ग को भुगतने के लिए छोड़ दिया गया.

उन्होंने सवाल उठाते हुए कहा कि पुराने नोट 15 दिसंबर तक चलन में थे. क्यों हम पहले की जारी अधिसूचना के मुताबिक 30 दिसंबर तक अपने पुराने नोट जमा नहीं कर सकते.


शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

Loading...

कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें