बहुजन समाज पार्टी की राष्ट्रिय अध्यक्ष मायावती ने केंद्र की मोदी सरकार और प्रदेश की योगी सरकार पर गंभीर आरोप लगाते हुए कहा कि दोनों मिलकर मेरी हत्या करवाना चाहती थी.

आजमगढ़ के रानी की सराय स्थित शंकरपुर चेकपोस्ट पर आयोजित रैली को संबोधित करते हुए कहा कि शब्बीरपुर में साजिश के तहत मेरी हत्या कराने की साजिश रची गई थी. उन्होंने कहा, मैं इस कांड के विरोध में जाती तो दंगे का रूप दे कर मेरी हत्या करा दी जाती, जो विफल हो गई.

इस दौरान उन्होंने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पर निशाना साधते हुए कहा कि उनको मंदिरों में पूजा-पाठ से फुरसत तो मिले तो वे प्रदेश का विकास करे. उन्होंने कहा, वह ध्यान क्या रखें, उनको मंदिरों में पूजा-पाठ से फुरसत तो मिले….कभी अपने गोरखनाथ मंदिर में, कभी अयोध्या में तो कभी चित्रकूट में. ऐसी स्थिति में पूर्वांचल तो छोड़ो पूरे प्रदेश का विकास नहीं हो सकता.

उन्होंने आरोप लगाया कि भाजपा एण्ड कम्पनी अपनी कमियों पर पर्दा डालने के लिये अयोध्या, काशी और मथुरा में चाहे जितनी पूजा-पाठ क्यों ना करते रहें, लेकिन जनता उनकी धार्मिक भावना के बहकावे में नहीं आने वाली. इस दौरान उन्होंने हिंदू धर्म छोड़ने की भी धमकी दी.

मायावती ने कहा, बाबा साहब ने 1935 में कहा कि मैं हिंदू पैदा हुआ यह मेरे बस की बात नहीं, लेकिन मैं इस धर्म में मरूंगा नहीं. बाबा साहब हिंदू धर्म में छुआछूत के चलते बौद्ध अपनाए. इस घटना के बाद भी हिन्दू धर्माचार्य अभी तक नहीं सुधरे हैं. इसके चलते आने वाले समय में मैं भी बौद्धधर्म अपना सकती हूं.

बीएसपी प्रमुख ने कहा कि आज देश में धर्म के नाम पर भय का माहौल है. खासतौर पर मुस्लिमों में बीजेपी और आरएसएस के चलते यह डर का माहौल बढ़ता ही जा रहा है. मायावती ने कहा, बीजेपी हिंदुत्व को एजेंडा बनाकर लोकसभा चुनाव लड़ने की तैयारी में जुट गई है. हिंदुओं को भ्रमित करने के लिए राममंदिर का राग फिर अलापा जा रहा है, जबकि राममंदिर बनने या भगवान को चढ़ावा चढ़ाने से आपकी जेब ही ढीली होगी.

मुस्लिम परिवार शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

Loading...

विदेशों में धूम मचा रहा यह एंड्राइड गेम क्या आपने इनस्टॉल किया ?