लोकसभा में अविश्वास प्रस्ताव पर बहस के दौरान राहुल गांधी ने भाषण खत्म कर राहुल गांधी सीधे पीएम मोदी को जाकर गले लगा लिया। राहुल की इस हरकत पर स्पीकर सुमित्रा महाजन ने आपत्ति दर्ज कराई है।

सुमित्रा महाजन ने कहा,  राहुल ने क्या किया, मुझे भी उस समय समझ में नहीं आया। हम सब को भावनाओं का सम्मान करना चाहिए.  प्रधानमंत्री जी अपनी सीट पर बैठे हुए थे।  उस दौरान अचानक राहुल गांधी ने ऐसा किया। मुझे लगता है कि सभी संसद सदस्यों को अपने पद की गरिमा बनाकर रखना चाहिए। राहुल गांधी मेरे दुश्मन नहीं हैं, वे मेरे बेटे जैसे हैं। राहुल ने क्या किया मुझे भी समझ में नहीं आया। हालांकि जब प्रधानमंत्री से मिलने के बाद राहुल गांधी गए तो वह आंख चमका रहे थे, उन्‍हें ऐसा नहीं करना चाहिए।

लोकसभा अध्यक्ष ने कहा, ‘ये समझ लो कि सदन की गरिमा हमे ही रखनी होगी। कोई बाहर का आकर नहीं रखेगा। हमें बतौर सांसद भी अपनी गरिमा भी रखनी है। मैं चाहती हूं कि सबलोग प्रेम से रहें। मेरे दुश्मन नहीं हैं राहुल जी, बेटे जैसे हैं।’ उन्होंने कहा कि किसी से गले मिलना गलत नहीं है लेकिन सदन की गरिमा भी बनाए रखनी होती है।

इसके चलते लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन से सदन को स्थागित कर दिया। दोबारा से जब सदन की कार्यवाही शुरू हुई तो सुमित्रा महाजन ने राहुल को सदन के नियम समझाए। उन्होने कहा कि आप डायरेक्ट आरोप नहीं लगा सकते। अगर आप किसी पर आरोप लगाते हैं तो सबूत होना चाहिए।

वहीं, बीजेपी ने राहुल गांधी के खिलाफ विशेषाधिकार हनन प्रस्ताव लाने का फैसला लिया है। बीजेपी का कहना है कि सदन में राहुल गांधी ने रक्षा मंत्री पर कई अनर्गल और झूठे आरोप लगाए हैं। इसलिए उनके खिलाफ विशेषाधिकार हनन प्रस्ताव लाने का फैसला लिया गया है।