singhl

36 कौमों को एक साथ लेकर चलने का दावा करने वाली राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे के दावों की अलवर से BJP के विधायक बनवारी लाल सिंघल ने खोल के रख दी है.

राज्य के अल्पसंख्यक मुस्लिम समुदाय के खिलाफ जहर उगलते हुए उन्होंने कहा कि मैं किसी मुस्लिम को ना ही अपने घर आने देता हूं और ना ही ऑफिस, यहां तक कि मैं उनका वोट भी नहीं मांगता हूं. इतना ही नहीं बीजेपी विधायक ने पूरी मुस्लिम कौम पर अपराधी का ठप्पा भी लगा दिया.

उन्होंने कहा कि मेरा मानना है कि अलवर जिले में अपराधों की फेहरिस्त देखें तो उसमें मुस्लिम समाज के लोग मिलेंगे. सिंघल ने कहा है कि मुस्लिम समाज लव जेहाद में पारंगत हो गया है. उन्होंने कहा कि जितने भी प्रकार के अपराध हैं उसमें मुस्लिम समाज शामिल मिलता है इसलिए मैं मेव समाज से वोट मांगने नहीं जाता हूं.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

रविवार को जिला वैश्य महासम्मेलन समिति की ओर से आयोजित प्रतिभा सम्मान समारोह में अपने संबोधन के दौरान उन्होंने मुस्लिम समाज पर कीचड़ उछलने में कोई कमी नहीं रखी. वहीँ दूसरी और विवाद बढ़ता देख पार्टी ने बयान से दुरी बना ली है.

भाजपा प्रदेशाध्यक्ष अशोक परनामी ने कहा कि विवादित बयान बनवारी लाल सिंघन का व्य़क्तिगत बयान है. उस बयान से भाजपा का कोई लेना देना नहीं है. विधायक बनवारी लाल सिंघल के विवादित बयान को लेकर भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा के प्रदेश पदाधिकारियों ने भी परनामी से मुलाकात की.

हमीद खान मेवाती ने प्रदेशाध्यक्ष से कहा कि यह बयान बहुत ही आपत्तिजनक है. वह लोग जब भी मेहनत करके अल्पसंख्यकों का विश्वास जीतने की कोशिश करते हैं, ऐसा दिया गया विवादित बयान उसपर पानी फेर देता है. हम प्रधान मंत्री के सबका साथ – सब का विकास के नारे को लेकर अल्पसंख्यकों को जोड़ रहे हैं. मोर्चा के प्रदेश महामंत्री हमीद खान मेवाती के नेतृत्व हुई मुलाकात में परनामी ने सिंघल पर कार्यवाही का आश्वासन दिया.

Loading...