amit shah in tension 1 696x447

कर्नाटक में चुनाव से ठीक पहले बीजेपी को बड़ा झटका लगा है. लिंगायतों को अलग धर्म का दर्जा देने की मांग को नकार चुके अमित शाह को लिंगायतों के मठाधीशों ने झटका देते हुए कांग्रेस को अपना समर्थन दिया है.

लिंगायत समुदाय के 30 प्रभावशाली गुरुओं ने कर्नाटक के मुख्यमंत्री सिद्धारमैया का समर्थन करने का ऐलान किया है. बता दें कि हाल ही में मुख्‍यमंत्री सिद्धारमैया ने लिंगायत समुदाय को अलग धर्म का दर्जा देने के सुझाव को मंजूरी दी. साथ ही उन्होंने लिंगायत समुदाय को अल्पसंख्यक का दर्जा देने का फैसला भी किया है.

इसके अलावा बेंगलुरु में ऐसे 220 मठों के मठाधीशों ने बैठक बुलाकर इन चुनावों में कांग्रेस को समर्थन देने की बड़ी घोषणा कर दी. कर्नाटक में लिंगायत समुदाय के लोगों की संख्या करीब 18 प्रतिशत है. और राज्य की 224 विधानसभा सीटों में से 123 पर इस समुदाय का प्रभाव है.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

lingayat 875

धर्मगुरु माते महादेवी ने मीटिंग के बाद कहा, ‘सिद्दारमैया ने हमारी मांग का समर्थन किया है. हम उनका समर्थन करेंगे. महादेवी का उत्तरी कर्नाटक में काफी प्रभाव है.’ एक अन्य धर्मगुरु मुरुगराजेंद्र स्वामी ने भी कहा, ‘हम उनका समर्थन करेंगे जिन्होंने हमें सपॉर्ट किया.’ मुरुगराजेंद्र ने बीजेपी के अध्यक्ष अमित शाह को ज्ञापन देकर अलग धर्म की मांग का समर्थन करने को कहा था.

वहीं, कुदालसंगम मठ (लिंगायत मत के संस्थापक बसवेश्वर की समाधि) के जय मृत्युंजय स्वामी ने कहा, ‘अमित शाह ऐसा बयान देनेवाले कौन होते हैं?’

Loading...