Sunday, August 1, 2021

 

 

 

CAA, NRC पर विपक्षी दलों की बैठक, बोली सोनिया – धर्म के आधार पर लोगों को बांटने की कोशिश

- Advertisement -
- Advertisement -

नई दिल्ली: नागरिकता संशोधन कानून (CAA) को लेकर देशभर में जारी प्रदर्शन के बीच कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने सोमवार को आरोप लगाया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह ने संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) और राष्ट्रीय नागरिक पंजी (एनआरसी) पर देश को गुमराह किया है।

कई प्रमुख विपक्षी दलों की बैठक में कहा, ‘नागरिकता कानून एक भेदभावपूर्ण और विभाजनकारी कानून है।  इस कानून का मकसद देश की जनता के सामने साफ हो चुका है। ये भारतीयों को धार्मिक आधार पर विभाजित करता है।’ देशभर में CAA के खिलाफ हो रहे प्रदर्शनों पर उन्होंने कहा, ‘हजारों महिला-पुरुष, खासकर छात्र इस बात को समझ चुके हैं कि ये कानून किस तरह देश को नुकसान पहुंचाएगा।

कुछ राज्यों में हालात चिंताजनक हैं। दिल्ली और उत्तर प्रदेश में पुलिस राज कर रही है। यूपी के कुछ शहरों में, जामिया मिल्लिया इस्लामिया में, जेएनयू, बनारस हिंदू यूनिवर्सिटी, इलाहाबाद यूनिवर्सिटी, दिल्ली यूनिवर्सिटी, गुजरात यूनिवर्सिटी और बेंगलुरु के इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ साइंस में, जिस तरह से पुलिस द्वारा छात्रों के साथ हिं*सा किए जाने की खबरें आईं, उन्हें देख और सुन हम हैरान हैं।’

उन्होंने दावा किया, ‘‘असम में एनआरसी उल्टा पड़ गई। मोदी-शाह सरकार अब एनपीआर की प्रक्रिया को करने में लगी है। यह स्पष्ट है कि एनपीआर को पूरे देश में एनआरसी लागू करने के लिए किया जा रहा है।’’

पार्लियामेंट एनेक्सी में हुई बैठक में कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी, राकांपा प्रमुख शरद पवार, कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अहमद पटेल, ए के एंटनी,  माकपा के सीताराम येचुरी, भाकपा के डी राजा, झामुमो के नेता एवं झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन, राकांपा के प्रफुल्ल पटेल, राजद के मनोज झा, नेशनल कांफ्रेस के हसनैन मसूदी और रालोद के अजित सिंह मौजूद थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles