regional editors’ conference in chennai
Chennai: Minister of Commerce & Industry, Nirmala Sitharaman addressing the Regional Editors’ Conference in Chennai on Friday. PTI Photo by R Senthil Kumar (PTI9_2_2016_000244B)

नई दिल्ली: रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने मंगलवार को जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (JNU) के मामले में गंभीर आरोप लगाते हुए कहा कि जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (JNU) में कुछ ताकतें हैं जो भारत के खिलाफ युद्ध छेड़ रही हैं और उन्हें संस्थान के छात्र संघ के निर्वाचित प्रतिनिधियों के साथ भी देखा गया है।

निर्मला ने कहा, ” कुछ ऐसी ताकतें हैं जो भारत के खिलाफ युद्ध छेड़ रही हैं और वे छात्र संघ के निर्वाचित प्रतिनिधियों के साथ भी देखे जाते हैं। इससे मैं असहज महसूस करती हूं।’’ उन्होंने कहा, ‘‘पिछले कुछ सालों में (जेएनयू में) जो चीजें हुई हैं, वे वास्तव में उत्साहजनक नहीं हैं।’’

रक्षा मंत्री ने कहा, ‘पुस्तिकाएं कहती हैं कि वे भारत के खिलाफ युद्ध छेड़ रहे हैं। उनकी विवरणिकाएं (ब्रोशर) ऐसा कहती हैं। जेएनयूएसयू का नेतृत्व करने वाले या जेएनयूएसयू सदस्य खुले तौर पर ऐसी ताकतों के साथ शामिल होते हैं, इसलिए भारत विरोधी कहने में आपको संकोच करने की आवश्यकता नहीं है।’

jnu 759
Students gather in front of JNU Administration block on Friday. Express photo by Oinam Anand. 19 February 2016

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

रक्षा मंत्री के बयान पर जवाहर लाल नेहरू छात्र संघ (जेएनयूएसयू) के अध्यक्ष एन साई बालाजी ने कहा कि उन्होंने खुद अभी तक राफेल डील पर सवालों के जवाब नहीं दिए हैं और जेएनयू के बारे में विवादित टिप्पणी कर रही हैं, वो दरअसल लोगों को असल मुद्दों से ध्यान भटकाना चाहती हैं।

उन्होंने सीधे-सीधे आरोप लगाते हुए कहा कि सरकार चाहती है कि देश राष्ट्रवाद बनाम राष्ट्रवाद विरोध पर चर्चा करे, वह राफेल समझौता, बेरोजगारी जैसे असल मुद्दों से जनता का ध्यान भटकाना चाहती है, वो खुद विफल हो गई है और इसी कारण वो जबरदस्ती के मुद्दों को उठाना चाह रही है।

Loading...