मुंबई | मुंबई में होने वाले महानगर पालिका चुनावो के लिए शिवसेना और बीजेपी में गठबंधन को लेकर खींचतान जारी है. शिवसेना ने बीजेपी को 60 सीटो पर चुनाव लड़ने का ऑफर दिया है. लेकिन बीजेपी इसे अपना अपमान मान रही है. ऐसे में दोनों दलों के बीच गठबंधन के आसार का ही नजर आ रहे है. हालाँकि बीजेपी अभी भी गठबंधन के ऊपर बोलने से बच रही है.

BMC की 227 सीटो में से शिवसेना ने बीजेपी को 60 सीटो पर लड़ने का प्रस्ताव दिया है. शिवसेना के सांसद संजय राउत ने पार्टी के प्रस्ताव पर बताया की हमने बीजेपी को 60 सीटें देने का ऑफर दिया है जो उनकी राजनितिक ताकत के हिसाब से बहुत ज्यादा है लेकिन हमारे अध्यक्ष उद्धव ठाकरे ने उदारता दिखाते हुए उन्हें इतनी सीटो का प्रस्ताव दिया.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

शिवसेना के प्रस्ताव को बीजेपी ने अपने अपमान के रूप में ले रही है. बीजेपी के मुंबई अध्यक्ष आशीष शेलार ने कहा की हमें 60 सीट देने का शिवसेना का दुस्साहस बीजेपी का अपमान है. हमें शिवसेना को अपनी आपत्ति जाहिर कर दी है. गठबंधन पर आशीष ने बीजेपी का रुख स्पष्ट करते हुए कहा की इसका फैसला बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष रावसाहेब दानवे और मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडनविस लेंगे.

उधर गठबंधन और आगामी चुनावो में बीजेपी की रणनीति के लिए मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडनवीस ने अपने विधायको और नेताओ के साथ बैठक की. इस बैठक में फैसला किया गया की शिवसेना के साथ गठबंधन विकास और पारदर्शिता की शर्तो के साथ ही किया जाएगा. शिवसेना के रुख के बाद भी बीजेपी , गठबंधन को लेकर आशान्वित है. हालाँकि सीटो को लेकर जरुर दोनों दलों में मतभेद है.

शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे बीजेपी को ज्यादा सीटें देने के मुड में नही है. उद्धव को लगता है की बीजेपी को ज्यादा सीटें देने पर पार्टी में बगावत हो सकती है और चुनावो से ठीक पहले अंदरूनी बगावत पार्टी के लिए नुकसानदायक हो सकती है. वही शिवसेना के एक नेता ने बीजेपी को 80 से 90 सीट देने का समर्थन किया है. पिछले चुनावो में शिवसेना 227 में से 135 सीटो पर चुनाव लड़ी थी. इस बार बीजेपी उनको इससे भी कम सीटो पर चुनाव लड़ने के लिए कह रही है.

Loading...