उत्तराखंड में राष्ट्रपति शासन के विरुद्ध आये नैनीताल हाईकोर्ट के फैसले पर मोदी सरकार की खास सहयोगी शिवसेना ने जमकर निशाना साधा है. शुक्रवार को शिवसेना के मुखपत्र सामना इस मामले में लिखा गया हैं कि मोदी सरकार का उतराखंड में चीरहरण हो गया। तथा दूसरी तरफ राष्ट्रपति के सम्मान को भी हानि पहुंची हैं.

शिवसेना ने आगे निशाना साधते हुवे लिखा हैं कि मोदी सरकार ने ये फैसला अपने राजनितिक हित साधने हेतु लिया था. लेकिन अदालत ने इनके मंसूबे को नाकाम कर दिया. साथ ही लिखा गया हैं कि अदालत ने कहा हैं कि राष्ट्रपति से भी गलती हो सकती हैं तो इस मामले में मोदी से भी गलती हुई हैं

गोरतलब हैं कि उत्तराखंड हाईकोर्ट ने राज्य में करीब एक महीने पहले से लगे राष्ट्रपति शासन को गुरुवार को रद्द कर दिया था.


शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

Loading...

कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें