shivpa

अयोध्या में राम मंदिर निर्माण को लेकर विश्व हिंदू परिषद की धर्मसभा के विरोध में समाजवादी पार्टी से अलग होकर प्रगतिशील समाजवादी पार्टी लोहिया बनाने वाले नेता शिवपाल यादव ने राजभवन का घेराव किया।

शिवपाल यादव ने अयोध्या में हो रही धर्मसभा को लेकर पैदल मार्च निकाला. इस दौरान उनके साथ पूर्व मंत्री शादाब फातिमा सहित कई बड़े प्रसपा नेता और कार्यकर्ता शामिल हुए। शिवपाल यादव ने अयोध्या के विषय पर राज्यपाल से मुलाकात की और उन्हें ज्ञापन सौंपा।

शिवपाल ने राज्यपाल राम नाईक से मुलाकात के बाद पत्रकारों से बातचीत में कहा कि अयोध्या मामला सुप्रीम कोर्ट में है। सुप्रीम कोर्ट के आदेश का इंतजार करना चाहिए। उन्होंने कहा कि राम मंदिर बनाने के लिए सरयू किनारे बहुत जगह पड़ी है, वहां मंदिर बनाएं। बाबरी मस्जिद की जगह मंदिर बनाने की जिद क्यों है? उन्होंने कहा कि ऐसा काम न हो जिससे देश में तनाव और दंगे हों। एक बार पूरी दुनिया में बदनामी हो चुकी है, दोबारा न हो।

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

cham

अयोध्या में भगवान राम की विराट मूर्ति लगाए जाने के सवाल पर शिवपाल ने कहा कि लंबी मूर्ति लगाने से लोगों को रोजगार नहीं मिलेगा। उन्होंने कहा कि मूर्तियां लगाकर, नाम बदलकर कुछ नहीं होता है। अब जनता मंदिर-मस्जिद के चक्कर में नहीं आएगी। उन्होंने कहा कि यूपी में कहीं पर भी विकास का काम नहीं हो रहा है। पुलिस थानों समेत सभी जगहों पर भ्रष्टाचार ही भ्रष्टाचार है। एसडीएम से सीडीओ तक भ्रष्टाचार में लिप्त हैं।

शिवपाल ने शनिवार को भी धर्मसभा को लेकर बयान दिया था कि अयोध्या में धारा 144 लागू होने के बाद भी भीड़ को एकत्र होने दिया जा रहा है। किसी भी कीमत पर विवादित भूमि पर सवोच्च न्यायालय के आदेश की अवहेलना नहीं होनी चाहिए। अगर राज्य व जिला प्रशासन स्थिति को नियंत्रण नहीं कर पा रहे हैं तो राज्य में राष्ट्रपति शासन लगा दिया जाना चाहिए।

Loading...