uddhav thakeray 650x400 61516693539

uddhav thakeray 650x400 61516693539

एनडीए की सबसे पुरानी साझेदार रही शिवसेना ने 2019 में होने वाले लोकसभा और विधानसभा चुनाव अकेले लड़ने का ऐलान किया है. पार्टी की कार्यकारिणी की बैठक के दौरान पार्टी प्रमुख उद्धव ठाकरे ने इस बात की घोषणा की. बता दें कि शिवसेना महाराष्ट्र और केंद्र में बीजेपी की अहम सहयोगी है.

मंगलवार को उद्धव ने कहा, ‘हम हिंदुत्व के लिए हर राज्य में चुनाव लड़ेंगे. आज मैं इसकी शपथ लेता हूं.’ उन्होंने आगे कहा कि प्रधानमंत्री खुद को पंत प्रधान कहते हैं लेकिन इस्राइल के पीएम को अहमदाबाद ले गए.वह उन्हें श्रीनगर के लाल चौक क्यों नहीं ले गए? उन्होंने श्रीनगर में रोड शो क्यों नहीं किया? क्या उन्होंने लाल चौक पर तिरंगा फहराया है?

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

दरअसल, शिवसेना कार्यकारिणी की बैठक में वरिष्ठ संजय राउत ने एनडीए से नाता तोड़ने का प्रस्ताव रखा था, जिसे सर्वसम्मति से पास कर दिया गया. संजय राउत ने इस प्रस्ताव में कहा, ‘बीजेपी से गठबंधन बनाए रखने के लिए हमेशा समझौता किया गया, लेकिन बीजेपी ने शिवसेना को नीचा दिखाने में कोई कसर नहीं छोड़ी. शिवसेना अब गरिमा के साथ चल सकेगी.’

इस दौरान अपने भाषण में उद्धव ठाकरे ने कहा कि हिंदू वोट में फूट ना पड़े, इसलिए हम कभी महाराष्ट्र से बाहर नहीं निकले, लेकिन अब शिवसेना हर राज्य में हिंदुत्व के मुद्दे पर चुनाव लड़ेगी. उन्होंने कहा, रोज सैनिकों की मौत हो रही है, कुर्बानी याद की जाती है, फिर हम सब भूल जाते हैं. उन्होंने कहा कि सर्जिकल स्ट्राइक का श्रेय लेने की गैरजरूरी कोशिश हो रही है. ये सेना का गौरव है.

वहीं नौसेना को लेकर नितिन गडकरी के बयान पर भी उद्धव ने निशाना साधा. उन्होंने कहा, ‘गडकरी सेना का अपमान कर रहे हैं. वह कहते हैं नौसेना को सरहद पर क्यों नहीं जाती. मैं पूछना चाहता हूं कि आप सर्जिकल स्ट्राइक का श्रेय क्यों लेते हो, आप लोग सरहद पर जाते हो क्या?”