गोवा में भाजपा द्वारा सरकार बनाने को लेकर शिवसेना ने निशाना साधते हुए कहा कि बीजेपी ने गोवा में ‘लोकतंत्र की हत्या’ की है.

शिवसेना ने अपने मुखपत्र ‘सामना’ में प्रकाशित एक संपादकीय में कहा, “छोटी पार्टियों ने राज्यपाल को इस शर्त के साथ स्वीकृति के पत्र दिए थे कि अगर मनोहर पर्रिकर को मुख्यमंत्री बनाया जाएगा, तभी वे भाजपा को समर्थन देंगे. हालांकि भाजपा के लिए अपने 13 निर्वाचित विधायकों में से एक को मुख्यमंत्री चुनना आसान नहीं था.”

संपादकीय में कहा गया कि कांग्रेस भले ही गोवा में सरकार नहीं बना पाई लेकिन इसका यह मतलब नहीं कि भाजपा नीत सरकार और राज्य में हालिया घटनाक्रम को नैतिकता कहा जा सके. गोवा में शक्ति परीक्षण का परिणाम इस सरकार के अंतिम निर्णायक कारक हो सकता है लेकिन वर्तमान स्थिति लोकतंत्र की हत्या से कम नहीं है.

शिवसेना ने कहा कि गोवा की जनता ने हालांकि ‘अयोग्य कांग्रेस’ का चयन किया है, लेकिन पार्टी त्वरित कदम नहीं उठा पाई और भाजपा ने तेजी से काम करते हुए संख्या के जोड़-तोड़ का लाभ उठा लिया. सम्पादकीय में कहा गया कि राज्य में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कड़े अभियान के बावजूद लोगांे ने कांग्रेस को वोट दिया.

शिवसेना ने कहा, कोई उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड में भाजपा की जीत से इंकार नहीं कर सकता. लेकिन तीन अन्य राज्यों में भी चुनाव हुए थे जिनके परिणाम विपरीत आए. लेकिन कोई राजनीतिक पंडित इस बारे में बात करने को तैयार नहीं है.

मुस्लिम परिवार शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

Loading...

विदेशों में धूम मचा रहा यह एंड्राइड गेम क्या आपने इनस्टॉल किया ?