चैट लीक केस में शिवसेना ने बीजेपी को घेरते हुए कहा कि भारतीय जनता पार्टी (BJP) के नेताओं ने वेब सीरीज ‘तांडव’ की सामग्री को लेकर उनके निर्माताओं के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई है लेकिन अगर उनमें वास्तव में हिम्मत है तो भारतीय सैनिकों की शहादत का अपमान करने वाले पत्रकार अर्नब गोस्वामी (Arnab Goswami) के खिलाफ मामला दर्ज कराएं।

शिवसेना ने सामना ने बड़ा आरोप लगाते हुए लिखा है कि एक तो ‘पुलवामा’ में हमारे सैनिकों की हत्या यह देशांतर्गत राजनैतिक षड्यंत्र था। लोकसभा चुनाव जीतने के लिए इन ४० जवानों का खून बहाया गया, ऐसे आरोप उस समय भी लगे थे। अब अर्णब गोस्वामी की जो वॉट्सऐप चैट बाहर आई है, वह उन आरोपों को बल देने वाली ही है।

शिवसेना ने कहा कि राष्ट्रीय सुरक्षा से संबंधित अनेक गोपनीय बातें गोस्वामी ने सार्वजनिक कर दीं, इस पर बीजेपी ‘तांडव’ क्यों नहीं करती? चीन ने लद्दाख में घुसकर हिंदुस्थानी जमीन पर कब्जा कर लिया। चीन पीछे हटने को तैयार नहीं, इस पर ‘तांडव’ क्यों नहीं होता? गोस्वामी को गोपनीय जानकारी देकर राष्ट्रीय सुरक्षा की धज्जियां उड़ानेवाले असल में कौन थे, जरा पता चलने दो! गोस्वामी द्वारा 40 जवानों की हत्या पर आनंद व्यक्त करना, यह देश, देव और धर्म का ही अपमान है।

सामना ने बीजेपी को आड़े हाथ लेते हुए लिखा है कि जो बीजेपी ‘तांडव’ के विरोध में खड़ी है, वही भारत माता का अपमान करने वाले उस अर्नब गोस्वामी के संबंध में मुंह में उंगली दबाकर चुप क्यों बैठी है? हिंदुस्तानी सैनिकों का व उनकी शहादत का अपमान जितना गोस्वामी ने किया है, उतना अपमान पाकिस्तानियों ने भी नहीं किया होगा।

गौरतलब है कि कश्मीर के पुलवामा जिले में 14 फरवरी, 2019 को पाकिस्तानी आंतकवादी संगठन जैश-ए-मोहम्मद द्वारा सीआरपीएफ के काफिले पर किए गए हमले में 40 जवानों की मौत हो गई थी। इसी पृष्ठभूमि में पाकिस्तान के बालाकोट में आतंकी शिविरों पर 26 फरवरी को हवाई हमला किया गया था।