Saturday, September 25, 2021

 

 

 

नागरिकता बिल पर बीजेपी को नहीं मिलेगा शिवसेना का साथ, नितीश के बाद अब उद्धव भी विरोध में

- Advertisement -
- Advertisement -

नागरिकता संशोधन बिल को लेकर चल रहे घमासान के बीच बीजेपी को एक और बड़ा झटका लगा है। दरअसल उसकी सहयोगी पार्टी शिवसेना ने बिल पर साथ देने से इंकार कर दिया है।
शिवसेना ने ऐलान किया है कि नागरिकता संशोधन बिल अगर राज्य सभा में लाया गया कि तो पार्टी इसका विरोध करेगी।

बता दें कि इससे पहले बिहार के मुख्यमंत्री और जनता दल यूनाइटेड मुखिया नीतीश कुमार ने घोषणा की थी कि उनकी पार्टी उच्च सदन में संशोधन बिल का विरोध करेगी। वर्तमान में 15 विपक्षी पार्टियों सहित राज्य सभा में कम से कम 114 सदस्य ऐसे हैं जिनके विधेयक के विरोध में वोट डालने की संभावना है।

बिल का विरोध करते हुए संजय राउत ने कहा, ‘यह बिल राजनीतिक है, जिसका उद्देश्य भाजपा के चुनावी हितों की सेवा करना है।’ पूर्वोत्तर के युवा नेताओं का एक प्रतिनिधि मंडल जल्द ही मुंबई में शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे से मिलने वाला है।

bjp

राउत ने कहा कि मेघालय के मुख्यमंत्री कोनराड संगमा और क्षेत्र के कई दलों के नेताओं ने उनसे इस मुद्दे पर समर्थन करने के लिए मुलाकात की। पूर्वोत्तर के दस दलों ने विधेयक का विरोध करने के लिए समझौता किया है।

विपक्षी दलों में कांग्रेस, टीएमसी, समाजवादी पार्टी, टीडीपी और आरजेडी शामिल हैं। इसके अलावा एनडीए के दस सदस्य, जेडीयू के छह, शिवसेना के तीन और नागा पीपुल्स फ्रंड के एक सदस्य विपक्ष के साथ जाने को तैयार हैं। ये सभी पार्टियां नागरिकता संशोधन बिल के विरोध में है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles