Monday, June 14, 2021

 

 

 

किसान आंदोलन पर ब्रिटिश संसद में हुई चर्चा शशि थरूर – लोकतंत्र में कोई किसी भी मुद्दे पर चर्चा करने के लिए स्वतंत्र

- Advertisement -
- Advertisement -

नए कृषि कानूनों के खिलाफ भारत में चल रहे किसान आंदोलन पर गुरुवार को ब्रिटेन की संसद में हुई चर्चा को लेकर कांग्रेस नेता व सांसद शशि थरूर ने कहा कि किसी भी लोकतंत्र में कोई किसी भी मुद्दे पर चर्चा करने के लिए स्वतंत्र है।

उन्होंने कहा कि, ‘मैं भारत सरकार पर कोई दोषारोपण नहीं करना चाहता लेकिन इतना जरूर कहना चाहता हूं कि एक लोकतंत्र में जनता द्वारा चुने हुए प्रतिनिधि किसी भी मुद्दे पर बात करने के लिए स्वतंत्र हैं।’ उन्होंने आगे कहा कि जैसे हम भारत में फिलिस्तीन के मुद्दे पर चर्चा कर सकते हैं या फिर किसी अन्य देश के घरेलू मुद्दे को चर्चा का विषय बना सकते हैं उसी प्रकार ब्रिटिश संसद के पास भी यह अधिकार है।

कांग्रेस नेता ने कहा कि ‘इसमें सरकार का दोष नहीं है। वो अपना दृष्टिकोण रखकर अपना काम कर रही है, लेकिन हमें यह समझना होगा कि एक दूसरा दृष्टिकोण भी होता है और लोकतंत्र में चुने गए प्रतिनिधि अपने विचार रखने के लिए स्वतंत्र होते हैं।’

थरूर ने आगे कहा, ‘मुझे नहीं लगता है कि इसमें कोई हैरानी की बात है। हमें इसे लोकतांत्रिक देशों के बीच में होती रहने वाली चीजों के तौर पर देखना चाहिए।’ गौरतलब है, गुरुवार को ब्रिटेन की संसद में भारत में कृषि कानूनों के विरोध में लंबे समय से चल रहे किसान आंदोलन और भारतीय प्रेस की आजादी को लेकर चर्चा हुई थी, जिसको भारत सरकार ने गलत ठहराया था।

इसके साथ ही ब्रिटिश उच्चायुक्त को बुलावा भेजा था। विदेश मंत्रालय ने मंगलवार को इसपर कड़ी प्रतिक्रिया भी जताई थी और कहा था कि ‘सरकार ने ब्रिटिश संसद में भारत के कृषि सुधार कानूनों पर अनुचित और विवादास्पद चर्चा किए जाने पर अपना सख्त विरोध जताया है।’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles