Thursday, August 5, 2021

 

 

 

ओवैसी ने जताई आशंका – 8 फरवरी के बाद जालियांवाला बाग में बदल सकता है शाहीनबाग

- Advertisement -
- Advertisement -

पिछले 50 दिनों से नागरिकता कानून के खिलाफ दिल्ली के शाहीन बाग में चल रहे प्रदर्शन को लेकर आल इंडिया मजलिस ए इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) के प्रमुख और हैदराबाद के सांसद असदुद्दीन ओवैसी ने कहा कि कि 8 फरवरी के बाद शाहीन बाग कहीं जालियांवाला बाग न बन जाए। उन्होने कहा कि प्रदर्शनकारियों को हटाने के लिए बल का इस्तेमाल किया जाएगा।

समाचार एजेंसी एएनआइ से फोन पर बातचीत के दौरान जब ओवैसी से पूछा गया कि सरकार की ओर से संकेत मिले हैं कि 8 फरवरी के बाद शाहीन बाग को साफ कर दिया जाएगा। तो इसके जवाब में उन्होंने कहा, ‘हो सकता है कि उन पर गोली चलाई जाए, शाहीन बाग को जलियांवाला बाग में बदला जा सकता है। ऐसा हो सकता है। भाजपा के मंत्री ने ‘गोली चलाने’ का बयान दिया। सरकार को एक जवाब देना चाहिए कि कौन कट्टरता फैला रहा है।’

इसके बाद एनपीआर और एनआरसी के बारे में बात करते हुए ओवैसी ने कहा, “सरकार को साफ-साफ जवाब देना चाहिए कि 2024 तक एनआरसी नहीं लागू होगा। वे एनपीआर के लिए 3900 करोड़ रुपये क्यों खर्च कर रहे हैं? मैं इतिहास का एक विद्यार्थी रहा हूं और इसलिए महसूस करता हूं। हिटलर ने भी अपने समय में दो बार जनगणना करवाया था और इसके बाद उसने यहूदियों को गैस चैम्बर में डाल दिया था। मैं नहीं चाहता कि हमारा देश भी उसी दिशा में जाए।”

ओवैसी अमृतसर में हुए उस जालियांवाला बाग नरसंहार का संदर्भ दे रहे थे, जिसमें 13 अप्रैल 1919 को 50 ब्रिटिश सैनिकों ने निहत्थे भारतीयों पर गोलियां चलाई थी, जिसमें हजारों लोग मारे गए थे। ओवैसी ने इसके लिए अनुराग ठाकुर ने ‘गोली मारों’ वाले बयान का संदर्भ दिया।

बता दें कि हाल ही में चुनावी सभा के दौरान दिल्ली में अनुराग ठाकुर के मंच से नारे लगवाए थे- देश के गद्दारों को… गोली मारों…’ । अनुराग ठाकुर ने यह भी कहा था कि जब 8 फरवरी के चुनाव में बीजेपी जीत कर दिल्ली की सत्ता में आएगी तो शाहीनबाग को खाली करा दिया जाएगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles