हैदराबाद: एआईएमआईएम अध्यक्ष असादुद्दीन ओवैसी ने बुधवार को जाहिरा तौर पर भाजपा तथा आरएसएस पर हमला बोला और कहा कि देश की आजादी को सावरकर के वारिसों से बचाने की जरूरत है।

Loading...

उन्होंने कहा, ‘‘आज नाथूराम गोडसे द्वारा स्वतंत्र भारत के पहले आतंकवादी हमले का दिन है जिसके गुरू सावरकर…।’’ओवैसी ने ट्विटर पर कहा, “भारत की आजादी कड़े संघर्ष के बाद हासिल की गयी थी और इसे सावरकर के वारिसों से सुरक्षित रखा जाना चाहिए।”

‘वर्ल्ड्स काउंट’ उत्सव में ‘डिमाइस ऑफ सेकुलरिज्म- द फ्यूचर ऑफ सेकुलरिज्म’ पर संबोधन के दौरान उन्होने बीजेपी सरकार पर कश्मीरी पंडितों को धोखा देने का आरोप लगाया और कहा कि इस विस्थापित समुदाय के घाटी में पुनर्वास में सरकार विफल रही है।

इस दौरान ओवैसी ने खारिज कर दिया कि वह रोहिंग्या मुसलमानों की तो बात करते हैं लेकिन विस्थापित कश्मीरी पंडित समुदाय की नहीं। उन्होंने कहा, ‘‘संसद में 2014 में मेरे भाषण में मैंने कहा था कि कश्मीरी पंडितों को घाटी वापस भेजा जाना चाहिए।’’

owaisi kjdb 621x414@livemint

ओवैसी ने कहा, ‘‘लेकिन प्रधानमंत्री मोदी ने साढ़े चार साल में क्या किया? क्या आप इससे संतुष्ट हैं। कश्मीर में उन्होंने क्या माहौल बनाया है।’’ उन्होंने कहा, ‘‘जिम्मेदार कौन है? मोदी और भाजपा ने कश्मीरी पंडितों को धोखा दिया है। उन्होंने आपके लिए कुछ नहीं किया।’’

एक महिला सैन्य अधिकारी के सवाल पर ओवैसी ने कहा, ‘‘घाटी में सेना है और चुनौतीपूर्ण कार्य कर रही है। मैं उनका सम्मान करता हूं। लेकिन पिछले सात साल में जम्मू कश्मीर में सेना के सर्वाधिक जवान मारे गये।’’

उन्होंने कहा कि वह आरएसएस के इस विचार को नहीं मानते कि भारत हिंदुओं और हिंदुत्व की वजह से धर्मनिरपेक्ष है। देश इसके संविधान की वजह से धर्मनिरपेक्ष है। उन्होंने कहा कि दलितों और अल्पसंख्यकों के बीच गठजोड़ महत्वपूर्ण है।

शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें