sambit patra 1

विकास को किनारे रख सांप्रदायिकता के दम पर चुनाव जीतने की कोशिश में बीजेपी को कैराना सहित देश के कई हिस्सों में हुए उपचुनाव में करारी हार मिली है। बावजूद बीजेपी ने इसे कोई सबक हासिल नहीं किया।

कैराना की जनता ने बीजेपी की सांप्रदायिकता राजनीति को नकार दिया। बावजूद बीजेपी प्रवक्ता संबित पात्रा अब भी सांप्रदायिकता के जरिए ही बीजेपी को नैया को पार  लगाने में जुटे हुए है।

पात्रा ने न्यूज चैनल न्यूज 24 के लाइव शो में विवादित बयान देते हुए कहा कि कैराना में इस्लाम जीत गया, लेकिन हिंदू क्यों हार गया? उन्होंने कहा, ‘हिंदुस्तान की राजनीति का एक नियम याद रखिए… अगर धार्मिक आधार पर ध्रुवीकरण होता है, एक गुट का होता है तो दूसरे गुट का भी होगा। मुझे खेद है कि ऐसा होना नहीं चाहिए, लेकिन अगर कैराना में एक गुट का एकजुट होना हुआ है, उन्होंने एक होकर वोट किया है तो याद रखिए कि पूरे हिंदुस्तान में इसका असर रहेगा।’

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

एंकर ने जब सवाल किया कि कैराना में तो 32 प्रतिशत ही मुस्लिम हैं बाकी 68 प्रतिशत हिंदू हैं, वे कहां गए? इसके जवाब में संबित पात्रा ने कहा, ‘मैं एक आम नागरिक की तरह बोल रहा हूं कि जब ये शब्द कि 32 फीसदी मुसलमान तो एक हो गया, हिंदू कहां गया? इस्लाम तो जीत गया हिंदू क्यों हार गया? तब हर कोई सोचेगा।’

बता दे कि कैराना की लोकसभा सीट पर राष्ट्रीय लोक दल (रालोद) की साझा उम्मीदवार तबस्सुम हसन ने पूर्व बीजेपी सांसद हुकुम सिंह की बेटी मृगांका सिंह को 55,000 मतों से हराया।