मुरादाबाद | उत्तर प्रदेश में प्रचंड बहुमत के साथ योगी आदित्यनाथ ने प्रदेश की कमान संभाल ली है. कार्यकाल सँभालने के दस दिन अन्दर ही योगी आदित्यनाथ ने कई कड़े फैसले लिए है जिसकी खूब चर्चा हो रही है. बूचडखाने बंद करने से लेकर एंटी रोमियो स्क्वाड के गठन का फैसला उनको लगातार चर्चा में रखे हुए है. हालाँकि इस दौरान उन्होंने प्रदेश में कानून व्यवस्था को दुरुस्त करने के लिए भी कुछ कदम उठाये है.

योगी ने गोरखपुर दौरे के दौरान प्रदेश के सभी गुंडों को चेतावनी देते हुए कहा था की या तो वो सुधर जाए या प्रदेश छोड़कर चले जाए. हालाँकि उनकी चेतावनी का कितना असर हुआ है इसकी बानगी तो कुछ दिनों बाद ही देखने को मिलेगी लेकिन प्रदेश से अभी भी छिटपुट घटनाये सुनने को मिल रही है. विधानसभा चुनावो में बीजेपी ने समाजवादी पार्टी को करारी शिकस्त दी.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

जो शायद समाजवादी पार्टी के कुछ नेताओं को रास नही आ रही है. इसलिए मुरादाबाद मंडल में एक समाजवादी नेता को योगी आदित्यनाथ की पक्ष में नारा लगाना इतना नागवार गुजरा की उसने नारे लगाने वाले युवक को गोली मारकर मौत के घाट उतार दिया. फ़िलहाल हत्यारोपी फरार है और पुलिस उनकी तलाश कर रही है. हालाँकि पुलिस इस पूरे मामले को चुनावी रंजिश करार दे रही है.

मिली जानकारी के अनुसार मुरादाबाद के असमोली थाना क्षेत्र के बीजेपी नेता मोनू सिंह के भाई विनिकेत उर्फ़ नन्हे रविवार को योगी जिंदाबाद के नारे लगा रहा था. इसी दौरान वहां से समाजवादी नेता और जिला पंचायत सदस्य उषा सिंह के पति , शिशुपाल सिंह गुजरे. नन्हे द्वारा योगी जिंदाबाद कहे जाने से वो इतना गुस्से में आ गया की उसने उसे गोली मार दी. नन्हे ने मौके पर ही दम तोड़ दिया. पुलिस ने नन्हे के शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज जांच शुरू कर दी है.

Loading...