Friday, July 30, 2021

 

 

 

सपा ने की चुनाव आयोग से शिकायत – साइकिल का बटन दबाया तो VVPAT में कमल को वोट गया

- Advertisement -
- Advertisement -

लोकसभा चुनाव के चौथे चरण में भी सपा ने कन्नौज में ईवीएम में बड़े पैमाने पर गड़बड़ी की शिकायत की। समाजवादी पार्टी ने आरोप लगाया कि ईवीएम में साइकिल के निशान वाला बटन दबाने पर वीवीपैट मशीन में कमल का निशान दिखाई दे रहा है।

सपा ने कन्नौज के साथ हरदोई, उन्नाव, कानपुर, झांसी और लखीमपुर खीरी सहित कई जगह ईवीएम खराब होने के पीछे साजिश की आशंका जताई है। कन्नौज के भाजपा प्रत्याशी सुब्रत पाठक पर पोलिंग एजेंट को पीटने, मतदाताओं को डराने और आचार संहिता के उल्लंघन का आरोप लगाया।

मुख्य निर्वाचन अधिकारी को सौंपे ज्ञापन में सपा नेताओं ने बताया कि कन्नौज के छिबरामऊ में बूथ संख्या 482 व 483 में साइकिल का बटन दबाने पर वीवी पैट पर कमल का फूल निकला। सपा ने इसके लिए प्रशासन को जिम्मेदार ठहराया।सपा सचिव राजेंद्र चौधरी ने डीजीपी ओपी सिंह के इशारे पर एसएसपी अमरेंद्र प्रताप सिंह व कन्नौज कोतवाली प्रभारी विनोद कुमार मिश्र पर भाजपा के पक्ष में सक्रिय होने का भी आरोप लगाया।

ध्यान रहे बीते सप्ताह किए गए अपने एक ट्वीट में अखिलेश यादव ने लिखा था कि “पूरे देश में ईवीएम में गड़बड़ी हो रही है या फिर वोट भाजपा को जा रहा है। जिलाधिकारी कहते हैं कि पोलिंग स्टाफ ईवीएम चलाने के लिए पूरी तरह से प्रशिक्षित नहीं है। 350 से ज्यादा ईवीएम बदली गई हैं। यह एक एक ऐसी चुनावी व्यवस्था के लिए, जिसे कराने में 50 हजार करोड़ रुपए का खर्च आता है, उसमें यह एक गंभीर आपराधिक लापरवाही है।”

अखिलेश के अलावा आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री और तेदेपा अध्यक्ष चंद्रबाबू नायडू भी ईवीएम को लेकर सवाल खड़े कर चुके हैं। पहले चरण के मतदान के बाद चंद्रबाबू नायडू ने चीफ इलेक्शन कमिशनर सुनील अरोड़ा से मुलाकात की थी और ईवीएम में गड़बड़ी का मुद्दा उठाया था। चंद्रबाबू नायडू ने चुनाव आयोग के पक्षपाती होने का भी आरोप लगाया था।

आंध्र प्रदेश के सीएम ने मांग की थी कि चुनाव फिर से बैलेट पेपर से कराए जाएं, ताकि चुनावी प्रक्रिया की पवित्रता बची रहे। तेदेपा अध्यक्ष ने अपने एक बयान में कहा था कि ‘जिस तरह से चुनाव आयोग, एक संवैधानिक संस्था, अपने संवैधानिक कर्तव्यों की पूर्ति करने में असफल हो रहा है, उससे ना सिर्फ अव्यवस्था फैल रही है बल्कि यह भविष्य में देश के लोकतंत्र के लिए भी खतरा है।’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles