साक्षी महाराज को टिकट कटने का डर, जाति का हवाला देकर दबाव बनाने की कोशिश

8:10 pm Published by:-Hindi News

2019 लोकसभा चुनाव की घोषणा के साथ ही पार्टियों के भीतर टिकट वितरण को लेकर घमासान शुरू हो चुका है। सत्तारूढ़ बीजेपी में भी कई दिग्गजों का टिकट दांव पर है। इसी क्रम में उन्नाव से सांसद साक्षी महाराज का इस बार टिकट काटे जाने की चर्चा जोरों पर है।

ऐसे में साक्षी महाराज ने अपनी ही पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष को पत्र लिखकर न सिर्फ जातीय आधार पर अधिक संख्या का हवाला देते हुए 2019 का लोकसभा टिकट देने की मांग की है बल्कि टिकट नहीं देने पर बुरा अंजाम भुगतने की चेतावनी भी दी है। साक्षी महाराज ने भाजपा के यूपी प्रदेश अध्यक्ष महेंद्र नाथ पांडेय को पत्र में लिखा है, “महोदय, जनपद में मुझे छोड़कर ओबीसी का कोई प्रतिनिधित्व नहीं है। वैसे भी पार्टी पर ओबीसी की उपेक्षा का आरोप यदा-कदा लगता रहता है।”

उन्होंने लिखा है, “इस लोकसभा सीट पर मैंने 2014 में तीन लाख 15 हजार वोटों से जीत दर्ज की थी। लोकसभा में कांग्रेस और बसपा की जमानत जब्त हो गई थी। सपा दूसरे नंबर पर रही थी। यह सीट सपा-बसपा गठबंधन में 2019 निर्वाचन में सपा के खाते में गई है। सपा की ओर से कद्दावर नेता अरुण कुमार शुक्ला या अन्य किसी ब्राह्मण के लड़ने की पूरी संभावना है।”

सांसद ने अपने पत्र में यह भी लिखा है, “यह उल्लेख करना भी आवश्यक है कि मेरे जनपद में आने से पहले भाजपा का कोई भी प्रतिनिधित्व एक दशक से जनपद में नहीं था। आज छ: के छ: विधायक और एक एमएलसी भाजपा का है। यदि उन्नाव से मेरे संबंध में पार्टी कोई अन्य निर्णय लेती है तो इससे मेरे प्रदेश और देश के करोड़ों कार्यकर्ताओं के आहत होने की पूरी संभावना है, जिसका परिणाम भी सुखद नहीं रहेगा।”

बता दें कि कांग्रेस ने उन्नाव सीट से अपने उम्मीदवार के नाम की घोषणा कर दी है. उन्नाव लोकसभा सीट से कांग्रेस ने इस बार फिर अनु टंडन को टिकट दिया है। साल 2009 के लोकसभा चुनाव में भी कांग्रेस प्रत्याशी अनु टंडन ने यहां पर जीत दर्ज की थी।

खानदानी सलीक़ेदार परिवार में शादी करने के इच्छुक हैं तो पहले फ़ोटो देखें फिर अपनी पसंद के लड़के/लड़की को रिश्ता भेजें (उर्दू मॅट्रिमोनी - फ्री ) क्लिक करें