भोपाल. मालेगांव ब्लास्ट की आरोपी रही साध्वी प्रज्ञा ठाकुर को भाजपा ने भोपाल से कांग्रेस के दिग्गज दिग्विजय सिंह के सामने मैदान में उतारा है। बता दें कि मालेगांव विस्फोट मामले में उन्हें 9 साल जेल में रहना पड़ा। हालांकि बाद में कोर्ट ने उन्हें बरी कर दिया।

साध्‍वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर के बीजेपीसे जुड़ने की अटकलें लगाई जा रही थीं और अंतत: बुधवार को उन्‍होंने बीजेपी का दामन थाम लिया। इससे पहले भोपाल में बीजेपी के वरिष्‍ठ नेताओं के साथ उनकी लंबी बैठक हुई, जिसमें पूर्व मुख्‍यमंत्री शिवराज चौहान भी मौजूद थे। बीजेपी से औचारिक तौर पर जुड़ने के बाद उन्‍होंने कहा कि वह चुनाव लड़ेंगी और जीतेंगी भी।

Loading...

साध्वी प्रज्ञा ने मीडिया से बातचीत में कहा, ‘मैंने औपचारिक रूप से बीजेपी की सदस्यता ले ली है। मैं चुनाव लड़ूंगी और जीतूंगी भी। मेरे पास शिवराज सिंह चौहान का समर्थन है।’ मध्य प्रदेश के सीएम कमलनाथ से जब मीडिया ने साध्वी प्रज्ञा की बीजेपी में एंट्री पर सवाल पूछा तो उन्होंने कहा कि साध्वी का बीजेपी में शामिल होना पार्टी की मनोदशा को दिखाता है।

उल्‍लेखनीय है कि भोपाल की पहचान बीजेपी के गढ़ के रूप में रही है। पार्टी वर्ष 1989 से ही यहां चुनाव जीतती आ रही है। उमा भारती भी यहां से बीजेपी की सांसद रह चुकी हैं। फिलहाल आलोक संजर भोपाल से बीजेपी के सांसद हैं। दिग्विजय सिंह के भोपाल से चुनाव लड़ने के ऐलान के बाद से बीजेपी ने भी मजबूत रणनीति बनानी शुरू कर दी।

एसएस प्रचारक सुनील जोशी हत्याकांड में भी आरोपी थीं, लेकिन कोर्ट ने उन्हें सभी आरोपों से बरी कर दिया। साध्वी प्रज्ञा का जन्म मध्य प्रदेश के भिंड जिले के कछवाहा गांव में हुआ था। हिस्ट्री में पोस्ट ग्रैजुएट प्रज्ञा का शुरुआत से ही दक्षिणपंथी संगठनों की तरफ रुझान था। वह आरएसएस की छात्र इकाई एबीवीपी की सक्रिय सदस्य भी रह चुकी हैं।

शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें