Wednesday, January 26, 2022

ज्योतिरादित्य सिंधिया से मिलने पहुंचे सचिन पायलट, गहलोत ने विधायकों को जयपुर किया तलब

- Advertisement -

राजस्थान की कांग्रेस सरकार पर संकट गहरा गया है। बगावती तेवर अपनाए जाने के बाद सचिन पायलट 15 विधायकों के साथ दिल्ली पहुंच गए हैं। इसके साथ ही उनके पास 16 कांग्रेस के और 3 निर्दलीय विधायकों का भी समर्थन है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, वे दिल्ली में कांग्रेस छोड़कर भाजपा में शामिल हुए नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया से मिल रहे हैं। इसी बीच मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने सभी विधायकों जयपुर तलब किया है।

बता दें कि पुलिस के स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप ने उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट को नोटिस भेजा था। उनसे राज्य की कांग्रेस सरकार को गिराने के आरोपों पर साल पूछे जाने थे। हालांकि, एसओजी ने इसके बाद एसओजी ने इस सिलसिले में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को भी बयान दर्ज कराने के लिए नोटिस भेजा है। यह नोटिस भी 10 जुलाई को ही भेजा गया है।

इसी बीच कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल ने ट्विटर पर लिखा, “पार्टी के लिए चिंतित हूं। क्या हम घोड़ों के तबेले से उठ जाने के बाद ही जागेंगे?” वहीं अभिषेक मनु सिंघवी ने कहा है कि इस वक्त कांग्रेस पार्टी को संतुलन और संयंम की सबसे ज्यादा जरूरत है। उन्होंने ट्वीट में कहा कि राजस्थान मेरा गृहराज्य होने के साथ कांग्रेस के ताज का आभूषण भी है। ऐसा कुछ भी नहीं है जो बातचीत से हल न हो सके। भाजपा को इस समस्या के समय में मौके की तलाश बंद कर देनी चाहिए।

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने विधायकों की खरीद-फरोख्त के मामले में प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान सीधे तौर पर भाजपा पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि भाजपा नेता गुलाब चंद कटारिया, प्रदेश अध्यक्ष डॉ. सतीश पूनिया और उप नेता प्रतिपक्ष राजेंद्र राठौड़ केंद्रीय नेताओं के इशारे पर राजस्थान में सरकार को गिराने के लिए खेल खेल रहे हैं।

राजस्थान के परिवहन मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास ने बताया, कैबिनेट मीटिंग में मुख्यमंत्री गहलोत ने कहा कि किसी विधायक या मंत्री का फोन बंद आए या फिर वह नहीं मिल रहा है तो घबराएं नहीं, उसे जाकर आप संपर्क करें। सरकार को बचाने की जिम्मेदारी सब पर है। खाचरियावास ने कहा,’मुख्यमंत्री अशोक गहलोत दिल्ली गए विधायकों के संपर्क में हैं।

उन्होने कहा,   सचिन पायलट हमारे प्रदेश अध्यक्ष हैं। अगर कोई विधायक उनके साथ गया है तो इसका मतलब यह नहीं है कि अशोक गहलोत के खिलाफ गया है। उनमें से ज्यादातर लोगों से मुख्यमंत्री ने बातचीत कर ली है। हालांकि बीजेपी सरकार को गिराने में लगी हुई है। मगर मुख्यमंत्री सभी परिस्थितियों पर नजर रखे हुए हैं।’

- Advertisement -

[wptelegram-join-channel]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles