बिहार के दरभंगा में लोकसभा चुनाव के प्रत्‍याशी व राष्‍ट्रीय जनता दल (राजद) के नेता अब्दुल बारी सिद्दीकी ने नाथूराम गोडसे को देश का पहला आतंकवादी करार देते हुए कहा कि भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) में हिम्मत है तो वह ‘गोड्से मुर्दाबाद’ का नारा लगाए।

सिद्दीकी ने कहा, ‘जो एकेश्वर में विश्वास रखता है वह कभी भी ‘वंदे मातरम’ नहीं गाएगा।’ हालांकि उन्होंने कहा कि उन्हें ‘भारत माता की जय’ का नारा लगाने में कोई समस्या नहीं है। RJD नेता ने गोडसे के राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के साथ कथित संबंधों के संदर्भ में कहा, ‘महात्मा गांधी का हत्यारा नाथूराम गोडसे देश का पहला आतंकवादी था। क्या मोदी सार्वजनिक रूप से गोडसे की निंदा करेंगे?’

सिद्दीकी ने नरेंद्र मोदी को प्रधानमंत्री के अयोग्‍य बताते हुए यह भी कहा कि वे प्रधानमंत्री पद के अनुरूप भाषा नहीं बाले रहे हैं। सिद्दीकी ने कहा कि देश में 66 योजनाएं मनमोहन सिंह सरकार की हैं, जिनके नाम बदलकर प्रधानमंत्री यश कमा रहे हैं।

आपको बता दें कि दरभंगा से 3 बार सांसद रह चुके कीर्ति आजाद इस बार झारखंड के धनबाद से चुनाव लड़ रहे हैं। दरअसल, भारतीय जनता पार्टी को छोड़कर हाल ही में कांग्रेस का दामन थामने वाले कीर्ति की यह सीट महागठबंधन में राष्ट्रीय जनता दल के खाते में चली गई थी। इस तरह यहां मुख्य मुकाबला RJD के उम्मीदवार अब्दुल बारी सिद्दिकी और भारतीय जनता पार्टी के उम्मीदवार गोपाल जी ठाकुर के बीच है।

उधर, जदयू प्रवक्ता अजय आलोक ने भी अब्दुल बारी सिद्दीकी के बयान पर तीखा हमला बोलते हुए तंज कसा और पूछा, सिद्दीकी जी आप तो ऐसे ना थे, आप पर ओवैसी या तेजस्वी दोनों में से किसका असर हुआ है। इस सबके बीच अब्दुल बारी सिद्दीकी के बयान से कांग्रेस ने किनारा करते हुए कहा कि ये बयान गैरजरूरी है। कांग्रेस प्रवक्ता प्रेमचंद मिश्रा ने कहा कि ऐसे बयानों का चुनावों पर असर पड़ता है। नसीहत देते हुए उन्होंने कहा कि गठबंधन के नेताओं को ऐसे विवादित बयानों से बचना चाहिए।

शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें