रविवार को पश्चिमी उत्तर प्रदेश के मेरठ में कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा (Priyanka Gandhi Vadra) की किसान महापंचायत के दौरान कांग्रेस के वरिष्ठ नेता राशिद अल्वी ने बड़ा ऐलान करते हुए कहा कि केंद्र में कांग्रेस की सरकार बनने पर तीन तलाक कानून वापस लेंगे।

मेरठ में आयोजित किसान महापंचायत में लोगों को संबोधित करते हुए कांग्रेस नेता राशिद अल्वी ने कहा कि हम सत्ता में आते ही तीन तलाक कानून को वापस ले लेंगे। हम ऐसा कानून लाएंगे जिसमें उन लोगों को तीन साल की सजा होगी जिन्होंने अपनी बीवियों को छोड़ दिया है। साथ ही राशिद अल्वी ने कहा कि कांग्रेस की सरकार आने पर इन तीनों कृषि कानूनों को भी वापस ले लिया जाएगा।

वहीँ प्रियंका गाँधी ने पंचायत में कहा कि वह अपनी अंतिम सांस तक किसानों के लिए लड़ती रहेंगी, चाहे वह 100 दिन हों या 100 साल। इसके अलावा उन्होंने किसानों से हर गांव से दिल्ली की सीमा पर जाकर विरोध प्रदर्शन करने का आग्रह किया।

उन्होंने कहा, “आप कांग्रेस को हर जगह अपने साथ खड़े पाएंगे। जब भी आप मुसीबत में होंगे, हम आपके बगल में होंगे। आपकी लड़ाई हमारी लड़ाई है, और मैं अपनी आखिरी सांस तक आपके साथ रहूंगी।” प्रियंका ने कहा कि ये कृषि कानून किसानों के हित में नहीं हैं। ये कानून सबसे बड़े हितधारकों, यानी किसानों से परामर्श किए बिना बनाए गए। कहते हैं, ये कानून किसानों के फायदे के लिए हैं, मगर सच्चाई इसके उलट है। ये कानून पूंजीपतियों के फायदे के लिए बनाए गए हैं।

प्रियंका ने आगे कहा, “100 दिनों से किसान दिल्ली की सीमाओं पर बैठे हैं, लेकिन सरकार को जरा भी इनकी चिंता नहीं है। यह सरकार वास्तव में प्रधानमंत्री के दोस्तों द्वारा चलाई जा रही है।” कांग्रेस नेता ने गन्ना बकाया के भुगतान में देरी पर भी चिंता व्यक्त की और कहा, “सरकार के पास दो हवाई जहाज खरीदने के लिए पैसे हैं, लेकिन गन्ना किसानों के बकाये का भुगतान ये नहीं करते। जब मेरे भाई राहुल गांधी ने आंदोलन के दौरान मारे गए किसानों के सम्मान में संसद में दो मिनट का मौन रखा, तो सत्तापक्ष का एक भी सदस्य खड़ा नहीं हुआ। क्या यह किसानों का अपमान नहीं है?”