Saturday, September 18, 2021

 

 

 

राजनाथ ने भारत को बताया ‘सहिष्णुता का विश्वविद्यालय’, कहा – ‘धार्मिक उत्पीड़न की इजाजत कभी नहीं’

- Advertisement -
- Advertisement -

rajnath-_145535323572_650x425_021316022120

गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने भारत को ‘सहिष्णुता का विश्वविद्यालय’ बताते हुए आज कहा कि देश में धार्मिक उत्पीड़न की इजाजत कभी नहीं दी जाएगी।

इंडिया क्रिश्चियन काउंसिल द्वारा आयोजित एक बैठक में उन्होंने कहा, ‘‘शांतिपूर्ण सहअस्तित्व के लिए सहिष्णुता आवश्यक है। भारत में सभी धर्मों के लोग शांतिपूर्ण तरीके से रहते हैं और भेदभाव के बगैर अपने धार्मिक नियमों का पालन करते हैं। यही कारण है कि भारत सहिष्णुता का विश्वविद्यालय है।’’

सिंह ने आगे कहा कि ईसाई धर्म भारत में करीब 2000 साल पहले आया और केरल में सेंट थॉमस चर्च है, जो दुनिया के सबसे पुराने गिरिजाघरों में से एक है। उन्होंने कहा कि भारत सेंट थॉमस से लेकर मदर टेरेसा तक ईसाईयों के योगदान को नहीं भुला सकता, जिन्होंने हमारे समाज से बुराइयों को खत्म करने की कोशिश की।

उन्होंने कहा, ‘‘दिल्ली में गिरिजाघरों पर हमले की घटनाएं हुईं, जो दिल्ली विधानसभा चुनाव से पहले हुई थी। लेकिन मैं कहना चाहता हूं कि चुनाव के पहले या बाद में धार्मिक उत्पीड़न की भारत में कभी भी इजाजत नहीं दी जाएगी।’’

सिंह ने कहा, ‘‘1947 में भारत का विभाजन धर्म के आधार पर हुआ और इसके बावजूद इसने एक पंथनिरपेक्ष देश रहने का विकल्प चुना.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles