yunus

राजस्थान में चुनावी घमासान के बीच भाजपा की ओर से 31 सीटों के प्रत्याशियों की दूसरी सूची भी जारी कर दी गई है। इस दौरान भी किसी मुस्लिम उम्मीदवार को टिकट नहीं दिया गया है। मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे के खासमखास मंत्री यूनुस खान के टिकट की अब तक घोषणा नहीं की गई है।

जानकारी के अनुसार, यूनुस खान के नाम को अभी  भी होल्ड पर रखा गया है। बताया जा रहा है कि एक दिन पहले ही यूनुस खान ने मुख्यमंत्री आवास में पहुंचस सीएम वसुंधरा राजे से मुलाकात की थी। जिसके बाद माना जा रहा था कि यूनुस का नाम दूसरी सूची में आ जाएगा। लेकिन, इस सूची में भी नाम नहीं आने पर यूनुस सहित उनके समर्थकों को तगड़ा झटका लगा है। हालांकि, यूनुस को अब तीसरे सूची में नाम आने को लेकर इंतजार बना हुआ है।

Loading...

दूसरी और राजस्थान अल्पसंख्यक मोर्चे ने किसी भी मुस्लिम उम्मीदवार को टिकट न देने पर हाईकमान के सामने अपनी नाराजगी जाहिर की है। राजस्थान भाजपा के अल्पसंख्यक मोर्चे के उपाध्यक्ष एम सादिक खान ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सहित पार्टी के शीर्ष नेताओं को पत्र लिखा। उन्होंने कहा कि किसी भी मुस्लिम उम्मीदवार को टिकट न देने के बाद वे किस मुंह से अल्पसंख्यक समाज के लोगों के पास जाकर भाजपा को वोट देने के लिए कहें।

सीट भाजपा उम्मीदवार का नाम
1 श्रीगंगानगर विनीता आहूजा (नया चेहरा)
2 अनूपगढ़ (एससी) संतोष बावरी (नया चेहरा, विधायक शिमला बावरी का टिकट कटा)
3 संगरिया गुरदीप सिंह शाहपीणी (नया चेहरा, कृष्णा कड़वा का टिकट कटा)
4 बीकानेर (पश्चिम) गोपाल जोशी (मौजूदा विधायक)
5 श्रीडूंगरगढ़ ताराचंद सारस्वत (नया चेहरा, कृष्णा राम का टिकट कटा)
6 नोखा बिहारलाल बिश्नोई (नया चेहरा)
7 रतनगढ़ अभिनेष महर्षि (कैबिनेट मंत्री राजकुमार रिणवा का टिकट कटा)
8 सीकर रतन जलधारी (मौजूदा विधायक)
9 दूदू प्रेमचंद बैरवा (मौजूदा विधायक)
10 झोटवाड़ा राजपाल सिंह शेखावत (मौजूदा विधायक, वसुंधरा सरकार में मंत्री)
11 मालवीय नगर कालीचरण सराफ (मौजूदा विधायक, वसुंधरा सरकार में मंत्री)
12 बगरू (एससी) कैलाश वर्मा (मौजूदा विधायक, मंत्री)
13 बस्सी (एसटी) कन्हैयालाल मीणा (2013 में चौथे नंबर पर रहे थे। दोबारा मौका)
14 चाकसू (एससी) रामोतार बैरवा (लक्ष्मीनारायण का टिकट कटा)
15 रामगढ़ सुखवंत सिंह (ज्ञानदेव आहूजा का टिकट कटा)
16 कठूमर बाबूलाल मैनेजर (मंगलराम का टिकट कटा)
17 बसेड़ी (एससी) छितरिया जाटव ( रानी सिलोटिया का टिकट कटा)
18 राजाखेड़ा अशोक शर्मा (नया चेहरा)
19 हिण्डौन (एससी) मंजू खैरवाल (राजकुमारी जाटव का टिकट कटा)
20 सिकराय (एससी) विक्रम बंसीवाल(नया चेहरा)
21 जैसलमेर सांगसिंह भाटी(छोटू सिंह भाटी का टिकट कटा)
22 पोकरण प्रताप पुरी (शैतान सिंह का टिकट कटा)
23 शिव खुमाण सिंह (कांग्रेस में गए मानवेंद्र सिंह की जगह मौका मिला)
24 चौहटन आदूराम मेघवाल (तरुण राय कागा का टिकट कटा)
25 गढ़ी (एसटी) कैलाश मीणा (जीतमल खांट का टिकट कटा)
26 बांसवाड़ा (एसटी) अखड़ू महीरा(मंत्री, धनसिंह रावत का टिकट कटा)
27 कपासन अर्जुन जीनगर (मौजूदा विधायक)
28 नाथद्वारा महेश प्रताप सिंह (नया चेहरा)
29 जहाजपुर गोपीचंद मीणा (नया चेहरा)
30 केशवराय पाटन चंद्रकांता मेघवाल (मंत्री बाबूलाल वर्मा का टिकट कटा)
31 डग कालूलाल मेघवाल (रामंचद्र का टिकट कटा)

 

बता दें कि पहली सूची में पार्टी ने वसुंधरा सरकार में मंत्री रहे नागौर के विधायक हबीबुर्रहमान को भी टिकट नहीं दिया जिससे नाराज रहमान ने भाजपा से इस्तीफा दे दिया। शीर्ष कांग्रेसी नेता राशिद अल्वी ने भाजपा की इस नीति पर टिप्पणी करते हुए कहा कि उसकी सांप्रदायिक सोच एक बार नहीं, बार-बार लोगों के सामने आ रही है।

उन्होने कहा कि भाजपा यह संकेत दे रही है कि उसे मुस्लिम समाज के लोगों की कोई जरुरत नहीं है। जबकि सच्चाई यह है कि यह देश हिंदू-मुस्लिम दोनों धर्मों की एकता का साक्षी रहा है। और दोनों के साथ आने से इस देश की नींव मजबूत हुई है।

शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें