mus

नई दिल्ली: बीजेपी के वरिष्ठ नेता और नागौर के विधायक हबीबुर्रहमान ने विधानसभा चुनावों में टिकट न मिलने पर पार्टी छोड़ दी है।

दरअसल, बीजेपी प्रत्याशियों की पहली सूची में हबीबुर्रहमान के स्थान पर इस बार नागौर से मोहनराम चौधरी को मौका दिया गया है। इस सीट से टिकट न मिलने पर हबीबुर्रहमान खेमे में खासी नाराजगी है। पार्टी छोड़े जाने के बाद कयास लगाए जा रहे थे कि हबीबुर्रहमान कांग्रेस में शामिल हो सकते हैं। लेकिन उन्होने कांग्रेस में शामिल होने से इंकार कर दिया।

बता दें, हबीबुर्रहमान नागौर से पांच बार विधायक रह चुके हैं। वह तीन बार कांग्रेस और दो बार बीजेपी से विधायक रहे हैं। पिछले दो चुनावों से वह बीजेपी से विधायक हैं।

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

congress bjp 647 033117014707

राज्य में विधानसभा की 200 सीटों में से दो सीटों पर मुस्लिम विधायक हैं और यह दोनों ही विधायक भाजपा से आते हैं। जिसमें से एक का टिकट कट चुका है। जबकि दूसरा नाम सरकार में दूसरे नंबर के मंत्री परिवहन मंत्री यूनुस खान का है।  जिनकी विधानसभा सीट डीडवाना को पार्टी ने अभी तक होल्ड पर रखा हुआ है।

ऐसे में अब बीजेपी अल्पसंख्यक मोर्चा के उपाध्यक्ष एम सादिक खान ने इस संबंध में पीएम को पत्र लिखकर पूछा है कि अगर ऐसा ही रहा तो मोर्चा किस मुंह से अल्पसंख्यकों से वोट मांगेगा। मोर्चे ने जिन 14 सीटों पर मुस्लिम उम्मीदवारों के नाम सुझाए थे उनमें से एक भी नाम लिस्ट में नहीं है।

Loading...