अजीत डोभाल से की जाए पूछताछ, पुलवामा हमले की सच्चाई सामने आ जाएगी: राज ठाकरे

नई दिल्ली:  जम्मू कश्मीर के पुलवामा में हुए आत्मघाती हमले पर महाराष्ट्र में मनसे अध्यक्ष राज ठाकरे ने पीएम नरेंद्र मोदी सरकार पर गंभीर आरोप लगाया है. उन्होने हादसे में शहीद हुए सीआरपीएफ (CRPF) के जवानों को ‘राजनीतिक शिकार’ करार देते हुए राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (एनएसए) अजीत डोभालसे पूछताछ करने की मांग की.

ठाकरे ने महाराष्ट्र के कोल्हापुर जिले में कहा, ‘यदि एनएसए डोभाल से पूछताछ की जाती है तो पुलवामा आतंकी हमले की सच्चाई सामने आ जाएगी.’ उन्होंने कांग्रेस के आरोपों से सहमति जताते हुए कहा, ‘पुलवामा हमले के वक्त प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कॉरबेट नेशनल पार्क में एक फिल्म की शूटिंग करने में व्यस्त थे. आतंकी हमले की खबरें आने के बाद भी उनकी शूटिंग जारी रही.’

मनसे प्रमुख ने कहा कि पुलवामा हमले में शहीद हुए 40 जवान ‘राजनीतिक शिकार’ बने और हर सरकार ने इस तरह की चीजें गढ़ीं, लेकिन मोदी के शासन में यह अक्सर हो रहा है. उन्होंने कहा कि, सरकार से अनेक खबरें बाहर आ रहीं हैं. खबरों का प्रचार-प्रसार किया जा रहा है. नोट बंदी राफेल और भ्रष्टाचार की अनेक बातें बाहर आ रही हैं. ठाकरे ने सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा, कुछ दिन में आने वाले लोकसभा चुनाव मे ऐसी बड़ी घटनाएं होती रहेगी और अपका ध्यान विचलित किया जयेगा.

ajit111

ठाकरे ने कहा कि अनेक बड़ी खबरों की ओर जनता का ध्यान बढ़ाना और सरकार के कारनामों को भूला देना इस सरकार का उददेश है. पिछले हफ्ते में पुलवामा में सीआरपीएफ जवानों पर जो हमला हुआ उसमें 40 जवान शहीद हुए यह राजकीय कत्ल हैं. उन्होंने कहा, लोकसभा चुनाव के सामने जनता का ध्यान अनेक बातों पर घुमाना ऐसी नीति अमेरिका अनेक सालों से करता आया है. उन्होंने सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा कि इसी तरह आज की सरकार भी कर रही है.

वहीं भाजपा ने भी राज पर पलटवार करते हुए कहा की जिस शख़्स ने हमेशा हिंसा की राजनीति की है वह दूसरे पर आरोप लगा रहा है. राज ठाकरे ने अपना जनाधार खो दिया है, इसी लिए वो कुछ भी बयान देकर सुर्ख़ियो में रहना चाहते हैं.

विज्ञापन