नई दिल्ली | छुट्टी से लौटते ही कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गाँधी सक्रीय हो गए. उन्होंने नोट बंदी पर दिल्ली में जंनवेदना सम्मलेन को संबोधित किया. इस सम्मलेन में राहुल गाँधी कुछ ऐसा बोल गए जो उनकी कट्टर विरोधी बीजेपी को बिलकुल भी रास नही आया. बीजेपी ने राहुल के बयान की निंदा करते हुए चुनाव आयोग में उनकी शिकायत की. बीजेपी के अनुसार राहुल गाँधी ने जन प्रतिनिधि कानून का उलंघन किया है.

दरअसल राहुल गाँधी ने कहा था की कांग्रेस सिंबल भगवान् शिव, गुरुनानक , गौतम बुद्ध , महावीर और इस्लाम की तस्वीर में दिखाई देता है  मैंने एक दिन भगवान् शिव की तस्वीर देखी तो उसमे मुझे कांग्रेस चिन्ह दिखाई दिया. फिर मैंने गुरुनानक की तस्वीर देखी तो उसमे भी यही चिन्ह मौजूद था. मुझे यह चिन्ह भगवान् बुद्ध, महावीर और इस्लाम में भी दिखाई दिया.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

राहुल ने आगे कहा की जब मैंने वरिष्ठ कांग्रेसी नेता कर्ण सिंह से कहा की कांग्रेस सिंबल हर धर्म में दिखता है तो तो उन्होने कहा की इसका मतलब यह है की वर्तमान स्थिति से डरो मत, अपना विश्वास बनाये रखो. राहुल गाँधी का यह बयान बीजेपी को नागवार गुजरा है. उन्होंने चुनाव आयोग में इसकी शिकायत करते हुए कहा की राहुल गाँधी ने चुनाव आयोग और सुप्रीम कोर्ट के आदेशो का उलंघन किया है.

बीजेपी की शिकायत में कहा गया की चुनाव आयोग ने चुनाव की तारीखों का एलान करते हुए कहा था की चुनाव में कोई भी राजनितिक दल धर्म और जाति के आधार पर वोट नही मानेगी. इसके अलावा सुप्रीम कोर्ट ने भी धर्म के आधार पर वोट मांगने को गैर क़ानूनी करार दिया था. वही राहुल गाँधी ने जनवेदना सम्मलेन में धार्मिक भावानाओ को भड़काने वाला भाषण दिया. बीजेपी ने राहुल गाँधी पर जन प्रतिनिधि कानून 1951 के उलंघन का भी आरोप लगाया.

Loading...