कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने खुद के पीएम बनने को लेकर अहम बयान दिया है। शुक्रवार को उन्होने कहा कि आगामी लोकसभा चुनाव के बाद अगर सहयोगी दल चाहेंगे तो वह जरूर प्रधानमंत्री बनेंगे।

एक अंग्रेजी अखबार के कार्यक्रम में राहुल ने एक सवाल के जवाब कहा, ‘विपक्षी दलों के साथ बातचीत करने के बाद यह फैसला किया गया कि चुनाव में दो चरण की प्रक्रिया होगी। पहले चरण में हम मिलकर भाजपा को हराएंगे। चुनाव के बाद दूसरे चरण में हम प्रधानमंत्री के बारे में फैसला करेंगे।’

अगर विपक्षी और सहयोगी दल चाहें तो उनका रुख क्या होगा, इस पर राहुल ने कहा, ‘अगर वे चाहेंगे तो मैं निश्चित तौर पर बनूंगा।’ उन्होने बीएसपी चीफ मायावती के मध्य प्रदेश में गठबंधन न करने के फैसले को लेकर भी बड़ी बात कहीं।

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

राहुल ने कहा, ‘मैं नहीं मानता कि बीएसपी के मध्य प्रदेश में गठबंधन न करने से हमें बहुत फर्क पड़ेगा।’ राहुल ने कहा कि यह बेहतर होता यदि हम गठबंधन बनाने में सफल हो पाते। कांग्रेस अध्यक्ष ने मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, राजस्थान और तेलंगाना के विधानसभा चुनावों में पार्टी की जीत की उम्मीद जताई।

बता दें कि बीएसपी चीफ मायावती ने बुधवार को ही प्रेस कॉन्फ्रेंस कर ऐलान कर दिया था कि राजस्थान और मध्य प्रदेश में उनकी पार्टी किसी भी कीमत पर कांग्रेस के साथ गठबंधन नहीं करेगी।

सरकार बनने की स्थिति में अपनी योजनाओं के बारे में राहुल ने कहा, ‘कांग्रेस सत्ता में आई तो मैं तीन काम करूंगा। पहला काम छोटे और लघु उद्यमियों को मजबूत करूंगा, दूसरा- किसानों को यह अहसास कराउंगा कि वे महत्वपूर्ण हैं. मेडिकल और शैक्षणिक संस्था भी बनाएंगे।’

राहुल ने कहा, ‘इस सरकार और हमारी सरकार में यह बुनियादी फर्क है कि हम भारत के लोगों पर विश्वास करते थे, लेकिन मौजूदा सरकार मानती है कि सारा ज्ञान उनके पास है और वे किसी से संवाद नहीं करना चाहते हैं। ’

Loading...