कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा है कि उनकी पार्टी दिल्ली में मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के नेतृत्व वाली आम आदमी पार्टी (आप) से गठबंधन के लिए आखिरी पल में भी तैयार थी। बशर्ते सीएम केजरीवाल को हरियाणा में भी गठबंधन की जिद से पीछे हटना पड़ेगा।

राहुल ने इस पर एक अखबार को बताया, “हम आखिरी पलों में भी गठबंधन के लिए राजी हैं। जैसे ही केजरीवाल उस शर्त को छोड़ देंगे, जिसमें हरियाणा में गठबंधन की बात शामिल है, गठबंधन (दिल्ली में) हो जाएगा।” उधर केजरीवाल ने एक अखबार से बातचीत में साफ़ कर दिया है कि अब गठबंधन की संभावनाएं पूरी तरह ख़त्म हो चुकी हैं।

राहुल के अनुसार, “केजरीवाल ने ही 4:3 (चार सीटें आप के लिए और तीन कांग्रेस के लिए) का फॉर्म्युला सुझाया था। इससे पहले, दिल्ली में हमारी पार्टी के नेता सीट शेयरिंग के इस फॉर्म्युला पर तैयार नहीं थे। लेकिन हमने उन्हें मनाया, तब केजरीवाल ने हरियाणा में भी गठबंधन की शर्त जोड़ दी।”

electon

उधर आप संयोजक अरविंद केजरीवाल ने स्पष्ट कर दिया है कि अब दिल्ली में कांग्रेस के साथ गठबंधन की संभावनाएं ख़त्म हो चुकी हैं. केजरीवाल ने साफ़ कहा कि कैंडिडेट अब नाम वापस नहीं लेंगे। उन्होंने आरोप लगाया कि राहुल गांधी गठबंधन करना ही नहीं चाहते और वह मोदी विरोधी वोटों को बांटने का काम कर रहे हैं।

केजरीवाल ने एक अखबार से बातचीत में कहा कि कुछ दिन पहले राहुल ने ट्वीट किया कि हम आपको 4 सीट देने को तैयार हैं। मैं पूछना चाहता हूं कि दुनिया में कौन-सा गठबंधन इस तरह ट्विटर पर या मीडियाबाजी से हुआ है। कांग्रेस को गठबंधन नहीं करना, बस दिखावा करना है। इस चुनाव में हमारा मकसद किसी भी तरह मोदी-शाह की जोड़ी को वापस आने से रोकना है।

Loading...
लड़के/लड़कियों के फोटो देखकर पसंद करें फिर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

 

विज्ञापन