नई दिल्ली: कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने कोरोना वैक्सीन को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से चार सवाल पूछे है। उन्होने ये भी कहा कि प्रधानमंत्री देश को इन सवालो के जवाब दें।

राहुल गांधी ने पूछा है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को बताना चाहिए कि सरकार ने भारतीयों के लिए किन-किन कंपनियों की कोरोना वैक्सीन को चुना है और उनको चुनने की क्या वजहें हैं। उन्होंने ये भी पूछा कि कोरोना टीका लगाने को लेकर किस तरह की प्रक्रिया अपनाई जाएगी। साथ ही किन लोगों को कोरोना की वैक्सीन सबसे पहले दी जाएगी और कोविड वैक्सीन के वितरण की क्या योजना सरकार ने तैयार की है। इसके अलावा क्या मुफ्त कोरोना वैक्सीन के लिए पीएम केयर्स फंड का इस्तेमाल किया जाएगा?

उन्होंने ट्वीट कर पूछा है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को बताना चाहिए कि सभी कोरोना वैक्सीन में से भारत सरकार किसे चुनेगी और क्यों? किसे पहले कोरोना वैक्सीन की खुराक दी जाएगी और इसके वितरण की क्या रणनीति रहेगी? क्या वैक्सीन को मुफ्त सुनिश्चित किए जाने के लिए पीएम केयर्स फंड का इस्तेमाल किया जाएगा? कब तक भारतीयों को वैक्सीन दी जाएगी?

बता दें कि केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने हाल ही में कहा कि साल 2021 के शुरुआती तीन महीनों में देश को कोरोना वैक्सीन मिलेगी। दुनिया में कुल 250 वैक्सीन बन रही है। इनमें से 30 भारत की तरफ देख रहे हैं जबकि भारत में 5 वैक्सीन का क्लिनिकल ट्रायल चल रहा है।

केंद्रीय मंत्री से पूछा गया कि कोरोना की वैक्सीन किसे सबसे पहले लगाई जाएगी? तब इस सवाल के जवाब में स्वास्थ्य मंत्री ने बताया है कि वैक्सीन सबसे पहले स्वास्थ्य कर्मचारियों को लगाया जाएगा। उन्होंने कहा कि हेल्थ वर्क्स का डेटा तैयार किया जा रहा है। इसके अलावा फ्रंट लाइन वर्क्स, पुलिस, पैरामिलिट्री, वैसे लोग जो सैनिटाइजेशन के काम में शामिल हैं और जो लोग 65 साल के अधिक के उम्र के हैं उन्हें यह वैक्सीन पहले लगाई जाएगी। इसके बाद दूसरे चरण में उन लोगों को यह वैक्सीन दी जाएगी जिनकी उम्र 50 साल से ज्यादा है और जो Comorbidity के मरीज हैं।

Loading...
विज्ञापन
अपने 2-3 वर्ष के शिशु के लिए अल्फाबेट, नंबर एंड्राइड गेम इनस्टॉल करें Kids Piano