नई दिल्ली । फ़िलहाल पूरे देश की नगर गुजरात के चुनावों पर है। पीछले चार साल में, जब से केंद्र में नरेंद्र मोदी की सरकार आयी है, यह पहला मौक़ा है जब कांग्रेस किसी चुनाव में इतनी आक्रमकता दिखायी दे रही है। कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी गुजरात में ताबड़तोड़ रैलियाँ कर रहे है वही उनकी सोशल मीडिया टीम भी गुजरात में भाजपा सरकार की नाकामियो को जनता के सामने रख रही है।

ख़ुद राहुल गांधी भी ट्विटर के ज़रिए भाजपा और मोदी सरकार को घेरने की कोशिश कर रहे है। खासकर राफ़ेल फ़ाइटर जेट डील और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के बेटे जय शाह के मामले में। इसके अलावा हार्दिक पटेल, अल्पेश ठाकोर और जिगणेश मेवनि की तिगड़ी का साथ मिलने के बाद कांग्रेस, गुजरात में बेहद मज़बूत स्थिति में दिखायी दे रही है। यही वजह है की भाजपा ने गुजरात में अपनी पूरी फ़ौज उतार दी है। इसमें प्रधानमंत्री मोदी से लेकर कई राज्यों के मुख्यमंत्री भी शामिल है।

सोमवार को प्रधानमंत्री ने क़रीब चार जगहों पर रैली कर कांग्रेस पर ज़बरदस्त हमला बोला। मोदी ने राष्ट्रवाद को मुद्दा बनाते हुए कांग्रेस पर आतंकी हफ़ीज़ सईद की रिहाई पर जश्न मनाने का आरोप मंढ दिया। इसके अलावा उन्होंने सर्जिकल स्ट्राइक और डोकलाम का मुद्दा भी उठाया। चाय बेचने और अन्य हमलों का जवाब देते हुए मोदी ने इसे गुजरात की अस्मिता से जोड़ते हुए कहा कि उनकी इतनी हिम्मत की गुजरात में आकर गुज़रात के बेटे पर अनर्गल आरोप लगाए।

मोदी के प्रहार के बाद सब लोग इस बात का इंतज़ार कर रहे थे की राहुल गांधी इन हमलों का क्या जवाब देंगे। उन्होंने भी पलटवार किया और ज़बरदस्त किया। उन्होंने ट्वीट कर राफ़ेल डील और जय शाह को लेकर मोदी की चुप्पी पर सवाल खड़े किए। उन्होंने लिखा,’  चेहरे पर शिकन, माथे पर पसीना. डरे-डरे से साहेब नजर आते हैं. शाह-जादा, राफेल के सवालों पर, जाने क्यूं इनके होंठ सिल जाते हैं।’

Loading...

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें