भारतीय मूल की अमेरिकी सांसद प्रमिला जयपाल ने अमेरिकी संसद में जम्मू-कश्मीर पर एक प्रस्ताव पेश किया है। इसमें भारत से वहां लगाए गए संचार माध्यमों पर लगाए प्रतिबंधों को जल्द से जल्द हटाने और सभी निवासियों की धार्मिक स्वतंत्रता संरक्षित रखे जाने की अपील की गई है।

प्रस्ताव में भारत से पूरे जम्मू-कश्मीर में संचार सेवाओं पर लगे प्रतिबंधों को हटाने, इंटरनेट सेवाओं को बहाल करने और हिरासत में लिए गए लोगों को रिहा करने की अपील की गई है। हालांकि कांग्रेस नेता शशि थरूर ने प्रमिला जयपाल के कदम की सराहना की है।

थरूर ने ट्वीट कर कहा कि कश्मीर पर अमेरिकी संसद में प्रस्ताव पेश कर अमेरिकी सांसद ने सराहनीय काम किया है। लेकिन हम अपने यहां पूरे शीतकालीन सत्र में कश्मीर पर चर्चा कराने में भी सफल नहीं हो पाए। हमें शर्म आनी चाहिए। वहीं इस प्रस्ताव की सराहना करने पर कुछ भाजपा नेताओं ने उनकी आलोचना की। हालांकि थरूर ने इसका जवाब देते हुए कहा कि जब भी भाजपा ऐसी नीतियां अपनाती है जिसका वह बचाव नहीं कर सकती तो वह ‘राष्ट्रीय हित’ के नाम पर बचने की कोशिश करती है।

Symbolic

बीजेपी सांसद शोभा करंदलाजे और तेजस्वी सूर्या ने थरूर के इस बयान की कड़ी निंदा की। करंदलाजे ने ट्वीट कर कहा, ‘अमेरिका द्वारा भारत के आतंरिक मामलों में दखलंदाजी करने की सराहना करने पर आपको शर्म आनी चाहिए। पहली बार जम्मू कश्मीर में लोग बहुत कम आतंकी गतिविधियां देख रहे हैं और लोग सुरक्षित महसूस कर रहे हैं। लेकिन कांग्रेस भारत के आतंरिक मामलों पर राजनीति करने और देश को बदनाम करने का मौका कभी नहीं चूकती।’

सूर्या ने ट्वीट कर कहा कि यह निराशाजनक है कि डॉ शशि थरूर ने कई बार विदेश में भारतीय हितों का बचाव किया है, वह आज अमेरिका द्वारा भारत के आतंरिक मामलों में हस्तक्षेप की सराहना कर रहे हैं।

Loading...
अपने 2-3 वर्ष के शिशु के लिए अल्फाबेट, नंबर एंड्राइड गेम इनस्टॉल करें Kids Piano
विज्ञापन