जामिया मिलिया इस्लामिया में 15 दिसंबर को हुई हिंसा से जुड़ा एक Video सामने आया है। जिसने राजनीतिक भूचाल ला दिया। Video के सामने आने के बाद सीधे तौर पर गृह मंत्री अमित शाह पर झूठ बोलने के आरोप लग रहे है। ये Video जामिया कॉर्डिनेशन कमेटी ने जारी किया है, जिसमें कथित तौर पर दिल्ली पुलिस लाइब्रेरी में पढ़ाई कर रहे निहत्थे छात्रों पर डंडे बरसा रही है।

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने भी ये वीडियो शेयर करते हुए दिल्ली पुलिस और गृहमंत्री को निशाने पर लिया है। उन्होंने ट्वीटकर लिखा- ‘देखिए कैसे दिल्ली पुलिस पढ़ने वाले छात्रों को अंधाधुंध पीट रही है। एक लड़का किताब दिखा रहा है, लेकिन पुलिस वाला लाठियां चलाए जा रहा है। गृह मंत्री और दिल्ली पुलिस के अधिकारियों ने झूठ बोला कि उन्होंने लाइब्रेरी में घुस कर किसी को नहीं पीटा।’

उन्होंने आगे लिखा कि इस वीडियो को देखने के बाद जामिया में हुई हिंसा को लेकर अगर किसी पर एक्शन नहीं लिया जाता तो सरकर की नीयत पूरी तरह से देश के सामने आ जाएगी। इधर, दिल्ली पुलिस के क्राइम ब्रांच ने कहा कि वह जारी किए गए विडियो को संज्ञान में ले चुकी है। क्राइम ब्रांच के स्पेशल कमिश्नर प्रवीर रंजन ने मीडिया के सवालों पर कहा, ‘हमने जामिया मिलिया इस्लामिया यूनिवर्सिटी के ताजा विडियो को संज्ञान में लिया है। हम इसकी जांच करेंगे।’

जामिया कॉर्डिनेशन कमेटी ने इस वीडियो पर कहा है कि सीसीटीवी फुटेज में साफ झलक रहा है कि पुलिस बल राज्य प्रायोजित हिंसा को अंजाम दे रही है। जामिया के छात्र अपने एग्जाम की तैयारी रीडिंग हॉल में कर रहे थे तभी पुलिस ने उन पर बर्बरता की।

सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा ये वीडियो एक सीसीटीवी फुटेज है। जिसमें साफ साफ दिखाई दे रहा है कि कुछ छात्र लाइब्रेरी में बैठे पढ़ रहे हैं उसी दौरान अचानक 5-6 पुलिस वाले आते हैं और उन पर लाठियां बरसाने लगते हैं। इस हमले के बाद लाइब्रेरी में भगदड़ मच जाती है और सभी बाहर की ओर भागने लगते हैं।

Loading...
लड़के/लड़कियों के फोटो देखकर पसंद करें फिर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

 

विज्ञापन