उत्तरप्रदेश के विधानसभा चुनावों में बड़ी हार का सामना करने वाली बहुजन समाज पार्टी ने अब आगामी चुनावों में भारतीय जनता पार्टी को रोकने के लिए गठबंधन के संकेत दिए है.

बसपा सुप्रीमो मायावती ने कहा कि उनकी पार्टी कुछ शर्तों के साथ गठबंधन के लिए तैयार है. मायावती ने कहा कि भाजपा जैसी साम्प्रदायिक दल को सत्ता में आने से रोकने के लिए बसपा गठबंधन के लिए भी तैयार है, लेकिन बसपा ऐसा तभी करेगी, जब सेक्युलर पार्टी के साथ गठजोड़ होगा और सम्मानजनक सीटों का बंटवारा होगा.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

भाजपा पर निशाना साधते हुए मायावती ने कहा कि मौजूदा समय में केंद्र की नरेंद्र मोदी और यूपी की योगी आदित्यनाथ की सरकार जनता को ठगने का काम कर रही है. दोनों का काम जनता को परेशान करना और साम्प्रदायिकता फैलाकर माहौल खराब करना रह गया है.

इसके साथ ही बसपा में परिवारवाद के मुद्दे पर मायावती ने सफाई देते हुए कहा कि यह विरोधियों का दुष्प्रचार है. बसपा संगठन में भाई और भतीजे के सहारे नहीं, बल्कि जुझारू और परिपक्व नेताओं को आगे बढ़ा रही है. साथ ही संघर्षशील नेतृत्व तैयार करने की दिशा में पार्टी काम कर रही है.

उन्होंने कहा कि आनंद कुमार को मजबूरी में पार्टी की जिम्मेदारी दी गई है, जबकि उनके बेटे आकाश अभी अपनी पढ़ाई कर रहे हैं. उन्हें पार्टी में कोई जिम्मेदारी नहीं दी गई है.