कांग्रेस की पूर्व अध्यक्ष सोनिया गांधी ने जन आक्रोश रैली में केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार  को निशाने पर लेते हुए कहा कि आज भारत झूठ, हिंसा और नफरत की भूमि बनकर रह गया है.

दिल्ली के रामलीला मैदान में आयोजित कांग्रेस की जन आक्रोश रैली को संबोधित करते हुए कहा, ‘‘पिछले कुछ साल से देश में भयंकर परेशानी का माहौल है. समाज का हर तबका बेचैन है. चाहे नौजवान हों, किसान हों, मज़दूर, व्यापारी, छोटे कारोबारी हों, दलित, आदिवासी, पिछड़े और अल्पसंख्यक हों, सबको भविष्य का भय सता रहा है.’’

कांग्रेस की पूर्व अध्यक्ष ने कहा, ‘‘बच्चियां तक सुरक्षित नहीं हैं. यही नहीं, उनके अपराधियों तक को संरक्षण मिल रहा है. बेरोज़गार युवाओं, जिन्हें हर साल दो करोड़ रोज़गार उपलब्ध कराने का वादा किया गया था, वे अभी तक रोज़गार की तलाश में हैं. वे अब समझ गये हैं कि उनके साथ क्या धोखा किया गया है. ठीक वही धोखा किसानों के साथ भी हुआ, जिन्हें उनकी उपज की लागत से, दोगुनी कीमत दिलाने का वादा मोदी जी ने किया था.’’

सोनिया ने मोदी सरकार की आलोचना करते हुए कहा कि संसदीय बहुमत को मनमानी का लाइसेंस समझ लिया है. सरकार अहसमति को हर स्तर पर कुचलने का अधिकार समझती है. उन्होंने कहा कि मजबूत संवैधानिक संस्थाओं की जरूरत है जिन्हें बड़ी मेहनत से 6070 साल में तैयार किया गया था, लेकिन मोदी सरकार ने उन्हें कमजोर किया है.

इसके आगे उन्होंने कहा, ‘मोदी जी के वादे- न खाऊंगा, न खाने दूंगा का क्या हुआ. तेल के दामों में हो रही बढ़ोतरी से आम जनता को परेशानी झेलनी पड़ रही है. मीडिया को बोलने की आजादी नहीं है और उसे दबाया जा रहा है.’

सोनिया ने कहा, “न्यायपालिका एक अभूतपूर्व संकट के दौर से गुजर रही है. हम सभी के लिए यह एक कठिन समय है और हमें इसे गंभीरता से लेना होगा और इसके खिलाफ लड़ना होगा.”

मुस्लिम परिवार शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

Loading...

विदेशों में धूम मचा रहा यह एंड्राइड गेम क्या आपने इनस्टॉल किया ?