savitri phule 620x400

आरक्षण को लेकर बीजेपी की दलित सांसद सावित्री बाई फुले मोदी सरकार के साथ किसी भी समझौते के मुड में नहीं है. उन्होंने लखनऊ में ‘संविधान बचाओ, आरक्षण बचाओ’ रैली में कहा कि अगर आरक्षण को खत्म करने का दुस्साहस किया गया तो भारत की धरती पर खून की नदियां बहेंगी.

सावित्री फुले ने कहा कि वह सांसद रहें या न रहें, लेकिन वह संविधान से छेड़छाड़ नहीं होने देंगी. लखनऊ में आयोजित इस रैली में बीजेपी सांसद ने कहा कि वह बाबा साहब डॉ.भीमराव अंबेडकर द्वारा बनाए गए संविधान के साथ छेड़छाड़ नहीं होने देंगी.

उन्होने कहा, आरक्षण कोई भीख नहीं बल्कि प्रतिनिधित्व का मामला है. यदि शासक वर्ग ने भारत के संविधान को बदलने और हमारे आरक्षण को खत्म करने का दुस्साहस किया तो भारत की धरती पर खून की नदियां बहेंगी.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

सावित्री बाई ने आरोप लगाया था कि केंद्र सरकार की नीतियों के कारण एससी-एसटी, पिछड़ा वर्ग और अल्पसंख्यक खतरे में हैं, जिससे भारतीय संविधान और आरक्षण भी खतरे में आ गया है. सांसद ने अपनी मांगों को सरकार के सामने रखा था, इसमें प्राइवेट सेक्टर में भी आरक्षण जैसी व्यवस्था की मांग भी शामिल है.

वहीं, बीजेपी सांसद ने सूबे की योगी सरकार द्वारा बाबा साहब भीमराव अंबेडकर का नाम बदलकर भीमराव रामजी आंबेडकर किए जाने के फैसले पर भी नाराजगी जताई है.

Loading...