tasad

कठुआ में 8 साल की मासूम असीफा के साथ मंदिर में सामूहिक बलात्कार और हत्या को लेकर कश्मीरियों में काफी गुस्सा है. ऐसे में अब राज्य की बीजेपी-पीडीपी सरकार की आलोचना खुद मुख्यमंत्री महबूबा मुफ़्ती ने की है.

महबूबा मुफ्ती के भाई और जम्मू कश्मीर सरकार में पर्यटन मंत्री तसादुक मुफ्ती ने कहा कि कठुआ में जो हुआ उसमे भाजपा-पीडीपी दोनों साथी हैं और इसका खामियाजा आने वाले समय में कश्मीरियों को अपने खून से भुगतना पड़ सकता है.

उन्होंने बताया, “आज सबसे बड़ी समस्या यह है कि हम नियंत्रित हैं. फिर भी हम पर विश्वास नहीं किया जाता. राज्य की स्थिति संवारने के लिए हम साझेदार हैं. लेकिन स्वीकारते हुए खराब लगता है कि किए गए वादे पूरे नहीं होते. हम (पीडीपी-बीजेपी) जुर्म में भागीदार हैं, जिसके कारण कश्मीरियों की एक पीढ़ी को अपने खून से इसकी कीमत चुकानी पड़ सकती है.”

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

asifa

तसादुक ने कहा कि यह मेरा व्यक्तिगत मत नहीं है बल्कि पीडीपी के अधिकतर नेताओं का यह मत है. केंद्र सरकार से गुहार लगाते हुए तसादुक ने कहा कि मैं केंद्र को अपनी जिद को छोड़ समस्या की पहचान करनी चाहिए, जिससे की यहां तनाव कम हो सके और फिर से राजनीतिक प्रक्रिया शुरू हो सके.

उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार को प्रदेश में किए गए वायदों को पूरा करने पर ध्यान देना चाहिए जो हमने यहां गठबंधन में लोगों से वायदा किया था. तसादुक ने कहा कि पीडीपी को यहां के लोगों से झुककर माफी मांगनी चाहिए कि उन्होंने इन लोगों को वह दिया जिसके वह हकदार नहीं हैं.

तसादुक ने आगे कहा, “बलात्कार के बाद मासूम बच्ची की बर्बर हत्या और सांप्रदायिक राजनीति ने राज्य का स्तर गिराया, जो कि हम सबके लिए शर्म की बात है. अगर गठबंधन की सरकार का मतलब लगातार विफलता और अपमान का सामना करना है तो मैं ऐसी स्थिति में अपनी बेचैनी नहीं छिपा पाता हूं.”

Loading...